Thu. Oct 22nd, 2020

सभी धर्मो का सार और मनुष्य की वास्तविक सच्चाई है आध्यात्म लेकिन इस सार को न समझने के कारण आज संसार कई मायनो में बंट गया है अगर व्यक्ति आध्यात्म को अपने जीवन में आत्मसात करें तो वह स्वयं से और संसार के प्रत्येक व्यक्ति से वास्तविक रूप में जुड़ सकता है उसका हमदर्द बन सकता है ऐसा ही कुछ संदेश देते हुए नजर आए कुछ लोग
यह संदेश देने वाले ये लोग आध्यात्म और राजयोग मेडिटेशन के अभ्यासी है इनके लिए यह धर्म के मर्म को समझने और अपनी आंतरिक शक्तियों को महसूस करने का सबब बन गया है भलें ही इनके रहने का स्थान और धर्म अलग अलग हैं लेकिन इनकी भाषा एक है वो है शांति, प्रेम और भाईचारें की भाषा ब्रह्माकुमारीज संस्थान से जुड़ने पर इन लोगों ने यह जाना की आध्यात्म और राजयोग मेडिटेशन ही वो साधन है जो हमें खुद से, खुदा से और सभी से जोड़ सकता है यह आनलाईन कार्यक्रम जर्मनी के फ्रैंकफर्ट से आयोजित किया गया था जिसके माध्यम से इन लोगों ने अपने अनुभव साझा किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *