Tue. Oct 20th, 2020

राखी का यह पावन उत्सव आपके इस अलौकिक जीवन में दिव्यता की चमक, दैवीगुणों की रौनक, रूहानियत की महक, खुशियां की चहक ओर फरीश्तों की झलक प्रदान करे संपूर्ण स्वास्थ्य व समृद्धि प्रदान करे संकट की इस घड़ी ने रक्षाबंधन पर्व को मनाने का तौर तरीका ही बदल दिया है ब्रह्माकुमारीज बहने हर साल राष्ट्रपति हो व प्रधानमंत्री, फिर सेना के जवान हो या जेल के कैदी देश के सभी राज्यों में वे हर क्षेत्र व हर समुदाय के लोगों को राक्षासूत्र बांधकर बुराईयों को छोड़ने का संकल्प कराती थीं लेकिन इस बार वातावरण व माहौल को देखते हुए पत्र राखी भेजकर उन्हें शुभकामनाएं दी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *