Fri. Oct 30th, 2020

Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के कोरबा में सात दिवसीय भागवत गीता ज्ञान यज्ञ कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें कथा वाचक बीके तुलसी ने कौरव एवं पांडव का आध्यात्मिक अर्थ बताते हुये कहा कि जो भगवान से विपरीत बुद्धि हैं वे कौरव और जो भगवान से प्रीत रखते हैं उन्हें पांडव कहते हैं इस दौरान उन्होंने मन में चल रहे विचारों के द्वंद युद्ध को वास्तविक युद्ध बताते हुये कहा कि जब हम नकारात्मक संकल्पों को खत्म कर सकारात्मक व अच्छे विचार के साथ कार्य करेंगे तो पुण्य कर्मो की पूंजी जमा होगी।
कुसमुंडा के कला मंदिर में हुई इस कथा के पूर्व नगर में राधे कृष्ण की चौतन्य झॉकी के साथ कलश यात्रा निकाली गई और अधिक से अधिक संख्या में भागवत कथा का लाभ लेने का आह्वान किया, कार्यक्रम में मुख्य अतिथी के तौर पर आये एस.ई.सी.एल. ऑफिस के सुप्रिंडेंट पी.के. दुबे, प्रोफेसर उषा दुबे एवं सेवाकेंद्र प्रभारी बीके रूकमणी ने भी अपने विचार व्यक्त किये और भक्ति का फल ईश्वरीय ज्ञान की प्राप्ति बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *