Mon. Oct 26th, 2020

Rajayoga Meditation Retreat in Latur

शरीर पर हुए जख्मों पर मरहम लगाकर भरा जा सकता है, लेकिन मन के जख्मों को कैसे भरें.. यह समस्या आज समाज के सामने हैजिसका कोई ज़वाब शायद ही किसी के पास हो,  इसी समस्या के समाधान के लिए ब्रह्माकुमसाज़ संस्थान ने महाराष्ट्र में लातूर के स्थानीय सेवाकेंद्र द्वारा दो दिवसीय राजयोग ध्यान द्वाराहैप्पीनस को हाय और टेंशन को बाय बायनामक सेमिनार का आयोजन किया गया जिसका लाभ लेने के लिए शहर के विशिष्ट लोग शामिल हुए।

इस शिविर की सार्थकता इस बात से लगाई जा सकती है कि, कई लोगों ने राजयोग को अपने जीवन में शामिल करने की ठान ली और स्थानीय सेवाकेंद्र पर सात दिवसीय राजयोग मेडिटेशन का कोर्स करने जा पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *