Fri. Oct 23rd, 2020

नागपुर के जामठा से है जहां विश्व शांति सरोवर रिट्रीट सेंटर में ब्रह्माकुमारीज़ के ग्राम विकास प्रभाग द्वारा शाश्वत यौगिक खेती एवं संपूर्ण ग्राम विकास आधार आध्यात्मिकता विषय पर सम्मेलन का आयोजन किया गया इस भव्य सम्मेलन में उपस्थित गणमान्य लोगों ने किन-किन मुद्दों पर चर्चा की और किसानों की समस्याओं के लिए क्या समाधान बताए देखिए इस पर हमारी खास रिपोर्ट
कृषि एवं ग्राम विकास प्रभाग द्वारा 2003 से भारत, मलेशिया नेपाल एवं बांग्लादेश के किसान भाई बहनों को शाश्वत यौगिक खेती के विषय में जागृत किया जा रहा है, क्योंकि शाश्वत यौगिक खेती के प्रयोग से हज़ारों किसानों ने कम खर्चे में बहुत ही अच्छी फसल तैयार की है, बंजर भूमि को भी उपजाउ बनाया है कृषि में ये सफलता नए युग के लिए नया कदम है इसलिए विश्व शांति सरोवर में किसानों को लाभप्रद जानकारी देने के लिए प्रभाग से जुड़े लोगों के लिए विशाल कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें मुख्य अतिथि राज्य के पशुपालन मंत्री सुनील केदार ने संस्था का आभार मानते हुए कहा कि मैं इस संस्था का शुक्रगुजार हूं जो लोगां के सामने प्रैक्टिकल योजना बता रही है किसान की समस्याओं में सरकार की योजनाओं में शाश्वत यौगिक खेती के बारे में निश्चित रूप से सोचा जाएगा वहीं सॉईल कन्ज़र्वेशन के डायरेक्टर मुनीष शर्मा ने भी ब्रहाकुमारीज संस्थान के साथ अच्छे संबंध होने की बात कही तथा उनके कार्यों को सराहा।
इस कार्यक्रम में भारत वर्ष से ग्राम विकास प्रभाग के 260 सदस्य सम्मिलित हुए जिन्हें प्रभाग की अध्यक्षा बीके सरला, उपाध्यक्ष बीके राजू, राष्ट्रीय संयोजिका बीके सुनंदा व नागपुर सबज़ोन प्रभारी बीके रजनी ने मुख्य रूप से संबोधित किया
आगे कामठी के विधायक टेकचंद सावरकर, नाबार्ड के उपमहाप्रबंधक राजेश दवे समेत अनेक विद्वानों ने प्रकृति और वातावरण को पवित्र व शुद्ध बनाने की ओर सभी का ध्यान खिंचवाया ताकि भारत का विकास तीव्रगति से हो सके।
इस सम्मेलन के अंत में वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके रूक्मिणी ने कहा कि हमारा मनोबल कमज़ोर हो गया है जिसके कारण प्रकृति पर इसका गहरा असर होता है इसके बाद उन्होंने मन को सशक्त बनाने के लिए कॉमेंट्री के द्वारा राजयोग का अभ्यास कराया जिससे सभी को मन में असीम शांति और शक्ति दोनों की अनुभूति हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *