Thu. Oct 22nd, 2020

Maharashtra

नारी का विकास ही समाज का विकास है। केवल भौतिक ही नहीं बल्कि सर्वांगिण विकास की ज़रुरत है। महिलाओं को आन्तरिक रुप से सशक्त बनाना ही उनके शक्ति स्वरुपा स्थिति को वापस स्थापित करना है। बशर्तें नारी अपनी स्थिति को पहचाने। देश को आज़ाद कराने से लेकर आध्यात्मिक और पौराणिक कथाओं में भी नारी की भूमिका अग्रणी रही है। यही वजी है कि देवताओं के नाम से पूर्व नारियों का नाम पहले आता है। चलिए खबरों का सिलसिला शुरु करते हुए सीधे चलते है महाराष्ट्र जहां उदगीर में कर्क रोग जागरुकता को लेकर वॉकाथॉन आयोजित हुई, जिसका शुभारम्भ पोस्ट मास्टर रोहिणी गावंडे, डी.वाई.एस.पी हिरमुखे, स्थानीय सेवाकेन्द्र प्रभार बीके महानंदा ने रिबन काटकर एवं हरि झंडी दिखाकर किया। इस वॉकाथॉन में बड़ी संख्या में सेवाकेन्द्र से जुड़ी महिलाओं ने हिस्सा लिया। वहीं इसके पश्चात् आयोजित कार्यक्रम में मौजूद महमानों ने अपने विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *