Mon. Oct 19th, 2020

Maharashtra

चिकित्सकों का कार्य बहुत ही ज़िम्मेवारी वाला होता है, क्योंकि वर्तमान के समय अनुसार नकारात्मक वातारण के कारण.. मरीज़ तन के साथ मन से भी कहीं ना कहीं बीमार होता है, ऐसे में चिकित्सक के लिए ये बहुत ज़रुरी हो जाता है कि वो अपने धैर्यपूर्ण व्यवहार द्वारा एक मरीज़ का इलाज करें। मन के द्वारा उत्पन्न होने वाली अधिकतर बीमारियां हम मन के श्रेष्ठ चिंतन द्वारा ही ठीक कर सकते हैं और इसी पर प्रशिक्षण देने के लिए महाराष्ट्र में हेल्थ केयर प्रोवाईडर्स के लिए आयुष मंत्रालय एवं ब्रह्माकुमारीज़ के संयुक्त तत्वाधान में शासकीय वैद्यकीय अधिकारी एवं कर्मचारियों के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।
इसी के चलते कामठी, शहादा, परभणी तथा माजलगांव में संस्थान के सेवाकेन्द्रों पर मानसिक स्वास्थ्य व राजयोग मेडिटेशन विषय पर कार्यक्रम हुए। जहां बीके बहनों ने राजयोग मेडिटेशन करने की विधि एवं उससे होने वाले फायदों से अवगत कराया गया।
कामठी में तालुका आरोग्य अधिकारी डॉ. अश्विनी फुलकर, कामठी पंचायत समिति के बी.डी.ओ सूर्यवंशी साहब, बीके प्रेमलता की मुख्य उपस्थिति रही, वहीं शहादा में मौजूद सैकड़ों कर्मचारियों एवं अधिकारियों को सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके विद्या ने मार्गदर्शित किया, आगे परभणी के शिवराम नगर ओम निवास में कार्यशाला के दौरान सभी को राजयोग के अभ्यास द्वारा अपना मनोबल बढ़ाने की विधि बताई गई, इस कार्यशाला में सेवाकेन्द्र की प्रभारी बीके अर्चना, ज़िला समन्वयक डॉ. शिवदास शिंदे मौजूद रहे। और आखिर में मजलगांव में आयुष ऑफिसर डॉ. रतन पारखी, तालुका हेल्थ ऑफिसर डॉ. अनिल परदेशी और सेवाकेन्द्र की प्रभारी बीके अनिता शामिल हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *