Fri. Oct 30th, 2020

Honour ceremony for beating even death circumstances to Mr. Chetan Kumar Cheetah

भारत मां के लाल और कोटा के दिलेर सपूत, सेना का वो चीता जिससे मौत भी हार गई कमान्डेंट चेतन चीता जिनकी बाहुदरी से प्रभावित होकर कोटा स्थित ब्रह्माकुमारीज़ के सेवाकेंद्र शक्ति सरोवर में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।
चमत्कार कब कहां हो जाए किसे पता, कुछ ऐसा ही तो हुआ चेतन चीता के साथ में, नहीं तो सोचिए 9 गोलियां लगने के बाद भला किसकी हिम्मत जवाब नहीं दे देगी और पूरे दो महिने कोमा में मौत से लडाई के बाद वो वापस लौट करके भी आ गए और आने के बाद भी कहा कि मैं इंतजार कर रहा हूं दुबारा वर्दी पहनकर वहीं अपने दुश्मनों से लोहा लेने के लिए, हम सलाम करते है इस भारत मां के लाल को जिसने जंग के मैदान में दुश्मनों और मौत को भी मात दे दी।
इस सम्मान समारोह का शुभारंभ बच्चों की सुंदर प्रस्तुति के साथ हुआ इस दौरान चेतन चीता के पिता राम गोपाल चीता भी साथ थे जिन्हें कोटा क्षेत्र की प्रभारी बीके उर्मिला ने शाल ओढ़ाकार व पगडी पहनाकर भावभीना अभिनंदन किया इस दौरान उन्होंने अपने अनुभव भी हमारे साथ साझा किये।
इस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *