Sun. Oct 20th, 2019

Barshi, Maharashtra

परिवार की निर्माण आपसी स्नेह, प्यार एवं सहयोग की भावना से संगठित रुप में रहने के लिए होता है। ब्रह्माकुमारीज़ विद्यालय में परिवार का त्याग करने की नहीं बल्कि परिवार को श्रेष्ठ बनाने की शिक्षा दी जाती है। परिवार को श्रेष्ठ बनाने की ज़िम्मेवारी माता-पिता की होती है और यह ज़िम्मेवारी वे अपनी संतान को श्रेष्ठवान बनाकर निभा सकते हैं। महिलाओं को उनके दायित्वों का पुनः ज्ञात कराने के लिए महाराष्ट्र के बार्शी में सुखी परिवार के लिए प्रभावशाली व्याख्यान का आयोजन हुआ, जिस पर चर्चा करने के लिए दिल्ली से संस्था के महिला प्रभाग की अध्यक्षा बीके चक्रधारी ने मुख्य वक्ता के तौर पर शिरकत की।

पारिवारिक समस्याओं के समाधान विषय पर चर्चा करते हुए बीके चक्रधारी ने बताया कि अहंकार पारिवारिक समस्या की जड़ है तो नम्रता पारिवारिक समस्या का हल, जिस व्यक्ति के साथ अपने मतभेद एवं मनमुटाव है उन के साथ वैरभाव रखने से समस्याओं में उलझ जाते है तो उसके प्रति क्षमाभाव रखने से समस्यों का समाधान हो जाता है।

इस मौके पर लक्ष्मी सोपन कृषि उत्पन बाज़ार समिति के संस्थापक राजाभाउ राउत एवं संचालक रावसाहेब मनगिरे, बार्शी नगरपालिका उपनगरपाल कृष्णराज बारबोले, सोलापुर उपक्षेत्र संचालिका बीके सोमप्रभा, स्थानीय सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके संगीता तथा अन्य कई अतिथि मुख्य रुप से मौजूद थी। इस अवसर पर बीके बहनों द्वारा अतिथियों को ईश्वरीय सौगात भेंट की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *