Mon. May 25th, 2020

Mysore, Karnataka

सर्वशास्त्रमयी शिरोमणी श्रीमद भागवद गीता का अर्थ कहीं न कहीं से समय के साथ बदलता चला जा रहा है जिसके कारण गीता के वास्तविक अर्थ से लोग महरूम होते जा रहे हैं, जिसे ध्यान में रखकर लोगों को श्रीमद भगवत गीता के पीछे छिपे भावार्थों के बारे में बताने के उद्देश्य से मैसूर के कलामंदिर में भागवद गीता अ लाइफ मैसेज विषय पर प्रोग्राम का आयोजन किया गया।

आज की दुनिया में हर कोई सुरक्षित जीवन की अपेक्षा करता है। हिंसा और दुर्व्यवहार से लोगों की मानसिकता खराब होती जा रही है ऐसे में परमात्मा शिव द्वारा दिए जा रहे गीता ज्ञान से ही मनुष्य गुणों शक्तियों से संपन्न श्रेष्ठ विचारवान बन सकता है इसी उद्देश्य के साथ यह कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके ब्रजमोहन, गीताकोविद प्रोफेसर केशवमूर्ति, सिरसी सेवाकेंद्र प्रभारी और गीता विशेषज्ञ बीके वीणा, मैसूरू सबज़ोन प्रभारी बीके लक्ष्मी, बीके शारदा समेत अनेक विद्वानों ने इस विषय पर चर्चा की और कर्मों की गुह्यगति के साथ आत्मिक स्मृति का महत्व बताया।

कार्यक्रम के अंत में अतिथियों को ईश्वरीय सौगात भेंट की गई व बीके ब्रजमोहन को प्रोफेसर केशवमूर्ति ने शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया इस दौरान बड़ी संख्या में मौजूद लोगों ने गीता पर आधारित इस विशेष कार्यक्रम का पूरा लाभ लिया व जाना कि गीता का भगवान निराकार परमात्मा शिव ज्योतिबिंन्दू स्वरूप हैं जो पांचों विकारों और बुराईयों पर विजय प्राप्त करने के लिए राजयोग सिखा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *