Sat. Oct 31st, 2020

झारखण्ड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से कर रहें है हाल हीं राज्यपाल 2 दिवसीय प्रवास पर ब्रह्माकुमारीज संस्थान के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में शिक्षा प्रभाग द्वारा आयोजित 10वें दीक्षांत समारोह में मुख्य रुप से पहुंची थी।
मुख्यालय पहुंचने के बाद राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू न केवल शिक्षा सम्मेलन की मुख्य अतिथि बनी बल्कि सभी बीके सदस्यों के लिए आयोजित होने वाली प्रातः काल ध्यान साधना में भी शरीक हुई। आध्यात्मिक अनुभवों को सुनाते हुए कहा, कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान से लम्बे समय से जुड़ाव है। जब राज्यपाल बनने की घोषणा हुई तब भी मैं आध्यत्मिक साधना में ही थी। बाबा के ज्ञान ने जिंदगी बदल दी। उनके वरदानों से ही यहां तक पहुची हुं।
सियासत से लेकर आध्यात्मिक विरासत के सफर का पूरा वृतांत उन्होने सुनाया की कैसे वे इस संस्थान से राजनीति में रहते जुड़ पाई। मंत्री पद पर रहते हुए किस तरह से आध्यात्मिक पथ पकड़ी रही।
उन्होंने बताया कि प्रोटोकोल के कारण वो सेवाकेन्द्र पर जाकर प्रातः काल की क्लास अटेंड नहीं कर पाती लेकिन परमात्मा ने उन्हें पूरे भारत के सेवाकेन्द्रों का भ्रमण करने का अवसर राज्यपाल के रुप में प्रदान किया है।
उपर लिखे हुए एंकर वाली बाईट के साथ एक और बाईट आगे निकाल सकते है जहां वो इस संगठन का हिस्सा बनने पर हुई खुशी के बारे में बोल रही है डिप लगाकर चला सकते है। 2 दिवसीय प्रवास पर मुख्यालय आकर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू दिल से बहुत खुश थी इस दौरान मंच पर.. शिक्षा प्रभाग के अध्यक्ष बीके मृत्युंजय एवं वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके गीता ने शॉल ओढ़ाकर उन्हें सम्मानित किया और ईश्वरीय सौगात भेंट की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *