Mon. Oct 21st, 2019

15 अगस्त यानि स्वतंत्रता दिवस और 15 अगस्त को ही रक्षाबंधन का पर्व भी.. 19 साल बाद यह एक दुर्लभ संयोग है। देश और दुनिया भर में इन दानों ही पर्वों के जश्न में लोग डूबे नज़र आए। 73 वें स्वतंत्रता दिवस पर भाई बहन के अमिट प्यार एवं देशप्रेम का जज़बा एक साथ देखने को मिला। एक ओर जहां राजधानी दिल्ली के लाल किले पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तिरंगा फहराकर देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी, वहीं ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय में दोनों ही पर्वों को अलौकिक एवं आध्यात्मिक संदेशों के साथ मनाया, इस बार खास देश की आज़ादी के दिन अपनी कमी कमज़ोरियों से स्वतंत्र हो स्वतंत्रता की राखी मनाने का संस्था के पदाधिकारियों ने संदेश दिया।
चलिए दिखाते है आपको मुख्यालय का नज़ारा, जहां देश का तिरंगा फहराकर सभी को रक्षा की प्रतीक राखी बांधी गई। सबसे पहले चलते है देश की राजधानी दिल्ली जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को संस्था की वरिष्ठ बीके बहनों ने राखी बांधी।
स्वतंत्रता दिवस तथा रक्षाबन्धन का पर्व वैसे तो पूरे देश में मनाया जा रहा है। लेकिन ब्रह्माकुमारीज संस्थान में स्वतंत्रता दिवस विकारों से आजादी के साथ एक ऐसे संकल्पना के साथ मनाया गया, जिसमें रामराज्य की परिकल्पना साकार हो सके। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन में प्रातः काल संस्था की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयेगिनी दादी रतनमोहिनी, महासचिव बीके निर्वेर, कार्यक्रम प्रबन्धिका बीके मुन्नी, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करुणा, शांतिवन के प्रबन्धक बीके भूपाल, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय तथा बीके भरत समेत बड़ी संख्या में संस्था के पदाधिकारियों की उपस्थिति में मनाया गया। समारोह को सम्बोधित करते हुए दादी रतनमोहिनी ने कहा कि आज जितनी तेजी से विकास हो रहा है उतना तेजी से कई बुराईयां भी फैल रही है। ऐसे में आज हम संकल्प करें कि देश को आजाद आसुरी प्रवृत्ति वालों से करना है। वही संस्था के महासचिव बीके ने कहा कि जो बापू ने सपना देखा था वह आज साकार करने का समय है। इसके बाद शांतिवन के सुरक्षा गार्डों ने मार्च पास्ट की सलामी दी तथा तथा संस्थान के पदाधिकारियों ने मार्च पास्ट का निरीक्षण किया। कार्यक्रम में आकर्षण का केन्द्र शांतिवन की बहनों की परेड रही। जिसमें श्वेत वस्त्रों में बहनों ने परेड की तो पूरा माहौल गरिमामय हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *