Mon. Oct 26th, 2020

गीता सुनना और सुनाना तो बहुत आसान है लेकिन उसे जीवन में उतारना बहुत ज़रूरी है और जब ज्ञान हमारे आचरण में समा जाता है तो फिर हमें दूसरों को कहने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती इसलिए गीता हमारे आचरण से प्रत्यक्ष होना चाहिए। ये उक्त विचार महामंडलेश्वर श्री श्री 1008 डॉ स्वामी शिवस्वरूपानंद सरस्वती ने गुरूग्राम के ओआरसी में चल रहे गीता महासम्मेलन के समापन सत्र में जाहिर किए। साथ ही अन्य महानसंतों ने भी राजयोग द्वारा परमात्मा से जुड़ने का आहवान किया।
इस मौके पर संस्था के अतिरिक्त महासचिव बी.के. ब्रजमोहन समेत अनेक सदस्यों ने गीता के महावाक्यों पर प्रकाश डाला।
अंत में सभी ने वर्तमान समय परमात्मा शिव द्वारा सुनाए जा रहे गीता के महावाक्यों को अपने आचरण में लाने का संकल्प लिया। इस मौके पर दिल्ली एवं एनसीआर से काफी संख्या में गीता प्रेमियों ने हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *