Tue. Oct 20th, 2020

Rajasthan

सामाजिक कार्यकर्ता गरीब और असाहय लोगों की सहायता करने की पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन दिनों दिन उनकी हालात और भी खराब होती जा रही हैं, ऐसा इसलिए है क्योंकि गरीब असाहय लोगों की मजबूरियों के मूल कारण पर कार्य नहीं कर पा रहें और वह मूल कारण है, आध्यात्मिक गरीबी यदि हम सही मायनों में उनकी मदद करना चाहते हैं तो हमें उनकी स्थूल मदद के साथ आध्यात्मिक सशक्तिकरण करने की भी दरकार है, लोगो में इसी बात की जागरूकता लाने के लिए माउंट आबू के ज्ञानसरोवर में समाज सेवियों के लिए राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसका शुभारंभ संस्था प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी, राजस्थान के बाल अधिकार सरंक्षण आयोग के अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी, इंदौर से लायंस क्लब के डिस्ट्रिक्ट गवर्नर परमिंदर सिंह भाटिया, प्रभाग की अध्यक्षा बीके संतोष, उपाध्यक्ष बीके अमीरचंद, राष्ट्रीय संयोजक बीके प्रेम, मुख्यालय संयोजक बीके अवतार की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ।
समाज को सही राह दिखाने में समाजसेवकों की अहम भूमिका होती है, समाज की संवेदनाओं को समझ उनके अनुरूप सेवा करना पुण्य कर्म है लेकिन अगर ध्यान दे तो आज मनुष्य धन से गरीब नहीं बल्कि उसे चरित्र की गरीबी की दंश झेलना पड़ रहा है इस गरीबी से मुक्ति प्राप्त करने के लिए मन में छिपी अथाह शक्तियों को जागृत करना होगा और इसके लिए मन की भूमि पर आध्यात्मिकता के बीज बोने होंगे, और उसकी शुद्ध संकल्पो से पालन पोषण करने के लिए राजयोग द्वारा परमात्मा से संबंध जोडने की दरकार है और यही संदेश देने का प्रयास कर रही है ब्रह्माकुमारीज़ संस्था जो समाज के लिए संजीवनी बूटी के समान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *