Wed. Oct 28th, 2020

Rajasthan

जनजाति बालिका खेल छात्रावास में नैतिक शिक्षा का महत्व विषय पर कार्यशाला की गई जिसमें बीके भगवान ने छात्राओं का मार्गदर्शन करते हुये कहा कि शिक्षा का उद्देश्य है बच्चों को चरित्रवान बनाना क्योंकि एक श्रेष्ठ चरित्र की मनुष्य जीवन की सच्ची संपत्ति है, इस दौरान उन्होंने राजयोग मेडीटेशन का भी अभ्यास कराया। इस कार्यशाला में हॉस्टल वार्डन रेखा नीलम, कृषि अधिकारी लेखराज सोलंकी एवं स्थानीय सेवाकेंद्र प्रभारी बीके मीना ने भी अपने विचार जाहिर किये।
इसीक्रम में धरियावाद में तनाव मुक्त सकारात्मक जीवन शैली विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें संस्थान के मुख्यालय माउंट आबू से आये वरिष्ठ राजयोग प्रशिक्षक बीके भगवान ने कहा कि नकारात्मक विचार ही तनाव के मुख्य कारण हैं इसलिये हमें अपने विचारों को श्रेष्ठ बनाने की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *