Thu. Nov 14th, 2019

Rajasthan

ब्रह्माकुमारीज संस्था के अंतर्राष्ट्रीय मुख्याल आबू रोड के शांतिवन में विज्ञान, आध्यात्मिकता और पर्यावरण पर वैश्विक सम्मेलन किया गया। जिसमें विश्व के प्रतिष्ठित लोग, पर्यावरणविद, वैज्ञानिक और आध्यात्मिकता नेता शामिल हुए।

ब्रह्माकुमारीज के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में 4 दिनों तक चलने वाले इस सम्मेलन के पहले दिन विशेष रूप से गृहमंत्री राजनाथ सिंह, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पूर्व पत्नी और टीवी एक्ट्रेस मारला मैपल, संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, केंद्रीय सामाजिक न्यायमंत्री थावरचंद गहलोत, गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी, महराष्ट्र की मदर टेरेसा कही जाने वाली आईकॉनिक मदर सिंधुताई सपकाल, अहमदाबाद के सेंटर फॉर एन्वायरमेंट एजुकेशन के फाउंडर डायरेक्टर व साइंटिस्ट पद्मश्री डॉ. कार्तिकेय साराभाई, संस्थान के अतिरिक्त महासचिव बीके ब्रजमोहन, शांतिवन की कार्यक्रम प्रबंधिका बीके मुन्नी समेत अन्य देशों के पर्यावरणविद और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कैंडल लाइटिंग कर और केक काटकर इसका उद्घाटन किया।

सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अपने 15 मिनट के वकतव्य में मन, आध्यात्म, विज्ञान और भारतीय संस्कृति पर तो बात की ही साथ ही संस्थान के विभिन्न कार्यों को भी सराहा.. उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान एक नहीं बल्कि सभी पर्टियों के नेताओं को यहां बुलाकर इस आध्यात्मिक ज्ञान को देना चाहिए।

ब्रह्माकुमारीज संस्था के 80 वर्ष पूर्ण होने पर 80 लाख पौधारोपण करने और पर्यावरण बचाने के संकल्प को लेकर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सभी सदस्यों को बधाई दी और संस्था द्वारा जैविक खेती, सौर उर्जा, महिला सशक्तिकरण जैसे अनेक विषयों पर किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि जो काम सरकार नहीं कर सकती वो ब्रह्माकुमारी संस्था कर रही है।

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने भी संस्था की पर्यावरण संरक्षण से लेकर अन्य सामाजिक कार्यों की तरीफ की और गीता के वास्तविक रहस्यों को समझने और सोल पावर को जानने के लिए इस ज्ञान को श्रेष्ठ बताया।

इसके साथ ही टीवी एक्ट्रेस मारला मैपल, आईकॉनिक मदर सिंधुताई सपकाल समेत अन्य प्रतिष्ठित अतिथियों ने भी अपने सुंदर विचार सभी के समक्ष रखे।

सभा को संबोधित करते हुए राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, बीके ब्रजमोहन और अन्य वरिष्ठ सदस्यों ने भी आत्मिक ज्ञान से विश्व में परिवर्तन लाने की बात कही।

इस समारोह में फिल्म अभिनेत्री ग्रेसी सिंह ने पूरी टीम के साथ ज़ोरदार प्रस्तुति दी

इस सम्मेलन की सफलता के लिए देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुभकामना संदेश भेजा है जिसमें उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए इसे बहुत ही उपयोगी और सार्थक बताया। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बधाई पत्र भेजकर हर्ष जताया उन्होंने लिखा कि विश्व सुधार के लिए महत्वपूर्ण योगदान देने वाले संस्थान को डायनेमिक वर्ल्ड लीडर अवॉर्ड लेने की मुबारक देता हूं और विज्ञान तथा आध्यात्म के सामंजस्य से ही मानवता का स्थिर भविष्य संभव है।

विशाल स्तर पर आयोजित इस सम्मेलन में हिस्सा लेने सांसद देवजी पटेल, विधायक जगसीराम कोली, जिला प्रमुख पायल परशुराम पुरिया, कलेक्टर अनुपमा जोरवाल, एसपी जय यादव, आबूरोड नगरपालिका अध्यक्ष सुरेश सिंदल, यूटीआई चेयरमैन सुरेश कोठारी समेत विश्व के 140 देशों से विदेशी मेहमान पहुंचे थे। जिनमें से पर्यावरण के क्षेत्र में काम कर रहे पर्यावरणविद और सामाजिक कार्यकर्ता भी शरीक हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *