Mon. Oct 19th, 2020

प्रयागराज में चल रहे कुम्भ मेले में महिला सशक्तिकण के मुद्दे को लेकर.. परमार्थ निकेतन द्वारा दो दिवसीय समिट आयोजित हुई, जिसका विषय था। ‘शी इज़ द् सोल्यूशन‘.. इस दो दिवसीय सम्मेलन में हज़ारों महिलाओं, पुरुषों एवं बच्चों, फेथ लीडर्स तथा पोलिटिकल लीडर्स को एक साथ लाया गया, इनमें ब्रह्माकुमारीज़ भी विशेष तौर पर आमंत्रित हुए, जहां गुरुग्राम के पालम विहार सेवाकेन्द्र की प्रभारी बीके उर्मिल, बीके सुदेश ने संस्थान का प्रतिनिधित्व किया।

इस समिट के उद्घाटन अवसर पर लोक सभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री सत्यपाल सिंह, परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती, डिवाइन शक्ति फाउण्डेशन की अध्यक्षा साधवी भगवती सरस्वती, ब्रह्माकुमारीज़ के वरिष्ठ बीके बहनों समेत अन्य कई प्रतिष्ठित हस्तियों ने देश की स्वतंत्रता के साथ-साथ महिलाओं की स्वतंत्रता के प्रति अपने विचार रखें। साथ ही बताया कि हमारी शक्ति को किसी और से सशक्तिकण की आवश्यकता नहीं.. बल्कि उनको यह पहचानने की आवश्यकता है कि वे स्वयं शक्ति है।

सम्मेलन में बीके उर्मिल ने कहा कि महिलाओं के आन्तरिक विकास के लिए राजयोग ध्यान द्वारा परमात्मा से शक्ति लेकर स्वयं में पुनः शक्तियों का जागृत किया जा सकता है। इस दौरान बीके बहनों ने स्वामी चिदानन्द सरस्वती समेत अन्य धर्मगुरुओं से मुलाकात कर.. ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा महिलाओं के क्षेत्र में की जा रही सेवाओं की जानकारी दी।

समिट के अन्तराल राउण्ड टेबल चर्चा में मौजूद सभी धर्मां के प्रतिनिधियों ने वर्तमान में शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों, बाल विवाह समेत अन्य कई गहन और अहम मुद्दों पर चर्चा की,  जिनके समाधान देते हुए मौजूद वक्ताओं ने मातृ शक्ति को सबसे बड़ी शक्ति बताया।

दूसरे दिन में हुए इस सम्मेलन में योग गुरु बाबा रामदेव समेत अन्य कई धर्मगुरु की मुख्य मौजूदगी रही, वहीं ब्रह्माकुमारीज़ की ओर से बीके सुदेश और माउण्ट आबू के ग्लोबल हॉस्पिटल से आई बीके बिन्नी.. इस चर्चा की मुख्य वक्ता रही।

इस मुहिम के चलते.. भीड़ की ऊर्जा से प्रेरित होकर, ‘एंडिंग चाइल्ड मैरिज़‘ के प्रति जागरुकता पैदा करने के लिए गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के लिए एक ऐतिहासिक हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया, जिसमें बच्चों द्वारा ‘शिक्षा के लिए हां, बाल विवाह के लिए नां‘ पर विशाल रैली निकाली गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *