Wed. Oct 28th, 2020

Mandi, Himachal Pradesh

माउण्ट आबू के वरिष्ठ राजयोग प्रशिक्षक बीके भगवान के हिमाचल प्रदेश के दौरे के दौरान मंडी में कुष्ट रोगियों के लिए मेडिटेशन और सकारात्मक जीवनशैली विषय पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बीके भगवान ने कहा कि शरीर रोगी होने के बाद भी यदि मन निरोगी हो तो वह व्यक्ति जीवन में सदा खुश रह सकता है।

कार्यक्रम में मौजूद एक व्यक्ति ने अपना अनुभव सुनाते हुए बताया कि जीवन में कोई भी गलती हो तो परमात्मा सर्जन को बताकर उसकी माफी मांग लेनी चाहिए।

 

आगे जिला कारागार में अपराधमुक्त समाज विषय पर आयोजित कार्यक्रम में बीके भगवान ने विकारों को सबसे बड़ा दुश्मन बताते हुए कर्मों की गति पर प्रकाश डाला। वहीं जेल उपाधीक्षक एन.आर भारद्वाज ने कहा कि क्रोध से आंतरिक रुप से व्यक्ति कमज़ोर होता जाता है।

इस अवसर पर बड़ी संख्या में मौजूद कैदियों को राजयोग का अभ्यास कराया गया, मौके पर स्थानीय सेवाकेन्द्र से गुलाब, बीके चन्द्रमणि मुख्य रुप से मौजूद थे।

 

मंडी में ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा टिल्ली गांव में नवनिर्मित गीता पाठशाला की ओपनिंग सेरेमनी के उपलक्ष्य में स्नेह मिलन कार्यक्रम आयोजित किया गया। जीवन में सकारात्मक सोच के महत्व विषय पर आयोजित इस कार्यक्रम में निरीक्षक दलीप सिंह, बीके भगवान, मंडी सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके शीला, सुंदरनगर सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके शिखा, भंगरोटू सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके प्रेम, पूर्व नायब तहसीलदार नरेन्द्र मुख्य रुप से मौजूद थे।

कार्यक्रम में बीके भगवान ने कहा कि वर्तमान समय जितनी भी समस्याएं हैं उन सभी का कारण नकारात्मक सोच ही है। वहीं बीके शीला ने मानसिक बीमारियों से निजात पाने के लिए सभी से राजयोग को अपनाने का आह्वान किया।

इस दौरान संस्थान के वरिष्ठ सदस्यों ने शिवध्वाजारोहण कर एवं रिबन काटकर नए भवन का शुभारम्भ किया और सभी को बधाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *