Sun. Oct 25th, 2020

Lucknow, Uttar Pradesh

जैविक और शाश्वत यौगिक खेती की बयार अब खिलखिलाती नज़र आने लगी है तभी तो उत्तर प्रदेश सरकार ने लखनउ महोत्सव में ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान को शाश्वत यौगिक खेती का प्रदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया है इसके लिए सरकार ने संस्था को सम्पूर्ण साज़ सज्जा के साथा निःशुल्क स्टाल उपलब्ध कराये हैं यह पहली बार था जब इस प्रकार के आयोजन में ब्रह्माकुमारीज़ को आमंत्रित किया था।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेई जी के नाम पर समर्पित ‘अटल गांव’ इस महोत्सव का विशेष आर्कषण वाला क्षेत्र था जिसमें शाश्वत यौगिक खेती का प्रदर्शन करने के लिए ज़िला प्रशासन ने ब्रह्माकुमारीज़ के त्रिपाठीनगर सेवाकेंद्र को आमंत्रित किया था जिसमें ‘सम्पूर्ण सुख शांति का आधार, शाश्वत यौगिक खेती’ थीम पर आकर्षक और प्रेरणादयक प्रदर्शनी सजायी गयी जिसमें दर्शाया गया कि अन्न की अशुद्धि के कारण आज अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं और विचारों की अशुद्धि के कारण कचेहरी मुकदमों से भरी पड़ी है ऐसे में अगर अन्न और विचारों की शुद्धि रखी जाए तो सुख, शांति का साम्राज्य स्थापन हो सकता है।

यौगिक खेती के इस आकर्षक प्रदर्शन में मटर की फसल तथा नारंगी के पौधों पर किये गये योग के प्रयोग का लाइव प्रदर्शन किया गया है। प्रोजेक्टर द्वारा वीडिओ शो, जीवामृत, प्राकृतिक कृषि रक्षा रसायन बनाने के तरीके, खेती में केंचुए का महत्व, देशी गाय का महत्व, रसायनिक खेती के दुष्प्रभाव तथा यौगिक खेती की प्रक्रिया को बखूबी दर्शाया गया है। ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा उत्तर प्रदेश में की जा रही किसानों की बेहद सेवा के सफलता की कहानी भी प्रमुखता से दर्शायी गयी है।

उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस महोत्सव का शुभारंभ करने के पश्चात मेले का अवलोकन किया उन्होंने अनेक मंत्रीगण, जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी समेत यौगिक खेती स्टाल का भी मुआएना किया……वहीं उद्घाटन से पूर्व महापौर संयुक्ता भाटिया ने भी लगभग 10 मिनट तक स्टाल में रहीं और यौगिक खेती की प्रक्रिया को समझने के बाद हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया।

दस दिन तक चलने वाले इस महोत्सव में प्रतिदिन लोगों हुजुम यौगिक खेती के स्टॉल का अवलोकन करने उमड़ रहा है इससे अंदाजा लगाया जा सकता है खेती की दुनिया में यौगित खेती का सूरज अब परवान चड़ने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *