Tue. Oct 20th, 2020

Himachal Pradesh

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के पानी की समस्याओं के बीच किसानों की फसलों की अधिक उपज तथा आर्थिक तरक्की के लिए पहली बार हमीरपुर में बुंदेलखंड कृषीय नेतृत्व शिखर सम्मेलन 2018 का विशाल आयोजन किया गया। इस दो दिवसीय सम्मेलन में भारत सरकार के ग्राम विकास एवं पंचायती राज तथा खनन मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी शरीक थे। इस सम्मेलन का उदघाटन यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, ब्रह्माकुमारीज़ से ग्राम विकास प्रभाग की अध्यक्षा बीके सरला, कई विधायकों, वैज्ञानिकों, स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रमुखों तथा बुंदेलखंड के बुद्धिजीवियों की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ
इस सम्मेलन में विशेष अतिथि के तौर पर आमंत्रित ब्रह्माकुमारीज संस्था के ग्राम विकास प्रभाग की अध्यक्षा बीके सरला ने कहा कि केवल जैविक खेती करने मात्र से किसानों का कल्याण नहीं होने वाला है किसान सर्वशक्तिमान निराकार परमात्मा शिव से राजयोग द्वारा शक्तियों को लेकर अपनी फसलों पर इसका प्रयोग न करें तो सफलता निरिश्त है।
ज्ञात हो कि हाल ही में भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा शाश्वत यौगिक खेती को बढ़ावा देने के लिए अधिकारिक तौर पर परम्परागत खेती में शामिल कर लिया गया है। जिससे शाश्वत यौगिक खेती करने वाले किसानों को अनुदान का भी प्रावधान है। ब्रह्माकुमारीज संस्थान का ग्राम विकास प्रभाग पिछले 25 वर्षों से शाश्वत यौगिक खेती का प्रयास कर रहा है। इस सम्मेलन में उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के सहायक निदेशक बदली विशाल तिवारी भी भाग लेने पहुंचे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *