Mon. Oct 26th, 2020

Healthy & Prosperous Bharat through Ancient Rajyoga

दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में ‘प्राचीन राजयोग द्वारा स्वस्थ एवं सुखी भारत’ बनाने के लक्ष्य को लेकर आयोजित कार्यक्रम में देशभर से आये लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा। ब्रह्माकुमारीज संस्था दिल्ली जोन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में पूरे देश के लोग शरीक हुए।
इस कार्यक्रम की सफलता के प्रति प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने शुभकामना संदेश भेजा संदेश में मोदी जी कहा कि यह संस्था पिछले सात दशको से भी अधिक समय से भारत एवं विश्व में अध्यात्मिक ज्ञान एवं राजयोग का प्रचार प्रसार कर रही है, मुझे अत्यंत प्रसन्नता है कि संस्था द्वारा ‘प्रचीन राजयोग द्वारा स्वस्थ एवं सुखी भारत’ विषय पर विशाल सम्मेलन का आयोजन हुआ है, इस कार्यक्रम प्रति हार्दिक बधाई देता हूं और इसकी सफलता की कामना करता हूं।
इस भव्य समारोह का शुभारंभ सस्थान की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी, संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतन मोहिनी, वीवेकानंद योग संस्थान के अध्यक्ष डॉ. एच.आर नागेंद्र, परमार्थ निकेतन आश्रम के संस्थापक स्वामी चिदानंद सरस्वती, संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, पंजाब ज़ोन के निदेशक बीके अमीरचंद, पूर्वी दिल्ली की प्रभारी राजयोगिनी दादी कमलमणि, जीवन प्रबंधक विशेषज्ञ बीके शिवानी समेत संस्थान के वरिष्ठ सदस्यों ने दीप जलाकर किया, धवल वस्त्रों से जगमगाता इंदिरा गांधी स्टेडियम अपने अलग रुप में दिखा।
स्वास्थ का मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ नहीं बल्कि मानसिक, बौद्धिक, सामाजिक एवं भावनात्मक स्वास्थ है, भौतिकता की चकाचौंध से आगे जाकर मन, बुद्धि को भगवान के वास्तविक स्वरूप में केंद्रित करने की विधि का नाम ही राजयोग है और परमपिता परमात्मा ने विशम में सुख शांति की स्थापना के लिए ही रोजयोग विद्या सिखाई थी।
उसी प्राचीन राजयोग के आधार से ही जीवन में सुख, शांति, आंतरिक शक्ति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि प्राप्त होगी और यदि हर व्यक्ति प्रण करे कि वो राजयोग के अभ्यास द्वारा विश्व में सुख शांति की स्थापना करेंगे तो परमात्मा का दिया ज्ञान और शक्ति हरपल हमारी मदद करेंगी।
भारत के विभिन्न राज्यों से आए तीस हजार से भी अधिक जन समूह को ससथान की वरिष्ठ बीके बहनों ने राजयोग के अभ्यास द्वारा शांति की गहन अनुभूति करायी और प्रतिदिन अभ्यास करने का आह्वान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *