Sat. Oct 31st, 2020

Haryana

गीता सर्वशास्त्र शिरोमणि है इसमें ही भगवानुवाच है, लेकिन इसमें कुछ ऐसे गुह्य रहस्य है इन्हीं रहस्यों को यदि व्यक्ति समझ जाये तो उसका जीवन आदर्श और समस्यामुक्त बन सकता है। इसी रहस्यों से पर्दा उठाने तथा लोगों को गीता के कर्म सिद्धांत के प्रति प्रेरित करने के उददेश्य से ब्रह्माकुमारीज़ संस्था ओम शांति रिट्रीट सेन्टर में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयेजन किया गया। इसमें देश के कई हिस्सां से लोग शामिल हुए। प्रशिक्षण के दौरान आज के परिपेक्ष्य में गीता ज्ञान का व्यावहारिक स्वरूप?, गीता के भगवान द्वारा ‘धर्म स्थापना’ में मातृशक्ति के महत्वपूर्ण योगदान और गीता ज्ञान देने के लिए भगवान किस दिव्य और अलौकिक रीति अवतरण पर बारिकी से चर्चा की गयी।

जब बात श्रीमदभागवद गीता पर प्रशिक्षण का हो तो उसमें निश्चित तौर पर गीता मं वर्णित राजयोग की विधि और उसकी सिद्धि तथा परमात्मा के सर्वव्यापी का चर्चा होना आम है। यही वजह था कि इस प्रशिक्षण में गीता के विभिन्न पहलुओं पर जो मानव जीवन में उत्कृष्टता का कार्य करता है । प्रशिक्षण दिया गया। सभी प्रशिणार्थियों ने बहुत ही बारीकी से प्रशिक्षित किया गया। गीता विशेषज्ञों ने वर्तमान समय में गीता के रहस्यों पर और उसकी उपयोगिता पर प्रकाश डाला।
ऐसे ही कई गुह्य रहस्यों पर प्रकाश डाला संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, दिल्ली ज़ोन की सह निदेशिका राजयोगिनी दादी रूकमणि, ओआरसी की निदेशिका बीके आशा, माउंट आबू से आयी वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका एवं गीता विशेषज्ञ बीके उषा अंत में भगवान की महिमा में एक सुंदर प्रस्तुति भी दी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *