Tue. Feb 19th, 2019

Delhi

वर्ष के सबसे लंबे दिन 21 जून और अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस भले ही एक महज संयोग है लेकिन यह पूरी दुनिया के लिए खास इसलिए है क्योंकि इस दिन यदि कोई जीवन में बेहतर बदलाव की ठान ले तो उसका जीवन जरुर लम्बा हो जायेगा। तो आईये इसके ज्वार की बानिगी दिखाने के लिए सीधे ले चलते है सबसे पहले देश की राजधानी दिल्ली और उसका लाल किला। जहाँ हज़ारों लोगों की उपस्थिति से सफेद समन्दर नजर आने लगा।
वैसे तो पूरे विश्व भर में करोड़ों लोगों ने योग कर 4th अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया। परन्तु योग और राजयोग द्वारा जीवन में सम्पूर्ण विकास के लिए ब्रह्माकुमारीज संस्थान तथा आयुष मंत्रालय के संयुक्त तत्वाधान में लाल किला मैदान में आयोजित इस विशाल कार्यक्रम का अलग ही नजारा था, चारों तरफ सफेद वस्त्रों में बैठे ब्रह्माकुमार और ब्रह्माकुमारी ऐसे लग रहे थे मानो जैसे फरिस्ते जमीं पर उतर आये हो और इस सभा में चार चांद तब लग गये जब संस्था प्रमुख 102 वर्षीय राजयोगिनी दादी जानकी लोगो का उत्साह बढ़ाने पहुंची |
योगियों की इस सभा में संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, भारत तथा भूटान में यूएन के इन्फारमेशन सेंटर के डायरेक्टर डर्क सेगर, झारखंड के जनजातीय मामलो के मंत्री सुदर्शन भगत, यहूदी समाज के ई.आई. मालेकर,बहाई धर्म के नेशनल ट्रस्टी डॉ. ए.के. मर्चेन्ट , हैदराबाद से मौलाना आजाद नेशनल उर्दु यूनिवर्सीटी के चांसलर फिरोज बख्त अहमद, ओआरसी की निदेशिका बीके आशा समेत संस्था के कई वरिष्ठ पदाधिकारीयों और कई अन्य धर्मो के प्रतिनिधियों ने , योग और राजयोग के जरिये विश्व शांति व वासुधेव कुटुम्बकम की कामना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *