Wed. Oct 21st, 2020

गुरूग्राम के ओम् शांति रिट्रीट सेंटर में मन की बात विषय पर एक दिवसीय रिट्रीट का आयोजन किया गया जिसमें चर्चा का विषय अभिभावक और बच्चों के बीच का रिश्ता था I इस रिट्रीट में लगभग 350 लोगों हिस्सा लिया, जिनका ओम् शांति रिट्रीट की निदेशिका बी.के. आशा ने “पेरेटिंग स्किल्स” , दिल्ली के द्वारका सेवाकेंद्र की बी.के. कमला ने “हीलिंग रिलेशनस थ्रो मेडिटेशन” , राजस्थान के भिवाडी से आए डॉ. रूप सिंह ने ‘मेडिटेशन टू इनक्रीज़ कानसेनट्रेसन पावर’ विषय पर मार्गदर्शन किया।
माता-पिता और बच्चों का संबंध अनादि काल से है, और इस संबंध को आदर्श बनाने के प्रयत्न आपको हर कहीं देखने को मिल जायेंगे I किशोर बच्चों को संभालना और उन्हें नैतिक मूल्य, अनुशासन और शिष्टाचार देना माता पिता के लिए एक बहुत बड़ी चुनौती है, यह एक ऐसी कला है जिसकी उन्हें कभी ट्रेनिंग भी नहीं मिली है…….तो ऐसे में जरूरत है ऐसे महौल की जहां माता पिता और बच्चों के बीच के इस खूबसूरत रिश्तो को संवारने के लिए उन बिंदुओं पर चर्चा हो सके जिनके कारण इस रिश्ते पर अंतर आ गया है I और ऐसा ही प्रयास किया ओम् शांति रिट्रीट सेंटर ने किया जहां रिश्तो को संवारने के लिए पैनल डिस्कशन का आयोजन किया गयाI जिसमें कई जानकारों ने कार्यक्रम में उपस्थित अभिभावकों और बच्चों को इस रिस्तों को संवारने की महत्वपूर्ण बातें बताई।
इस दौरान कुछ बच्चें जोकि राजयोग मेडिटेशन का नियमित रूप से अभ्यास करते हैं उन्होनें राजयोग से उनके जीवन में आए परिवर्तनों को सभी के साथ साझा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *