Thu. Oct 29th, 2020

ब्रह्माकुमारीज़ संस्था की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी जी का 103वां जन्मदिन.. संस्थान के मुख्यालय शांतिवन में बडे़ ही हर्षोल्लास से मनाया गया। नए वर्ष का आगाज़ और दादी के 104वें वर्ष में प्रवेश का ये दिन… सभी के लिए बहुत खास था। हज़ारों लोगों की भीड़ से भरे डायमण्ड हॉल का नज़ारा भी कुछ कम ना था।

103 वर्ष की उम्र और लाखों लोगों की अभिभावक, दादी मॉं का दर्जा के साथ असीम उर्जा वाली प्यारी दादी का जीवन लोगों के लिए प्रकाश स्तम्भ है। भले ही जीवन के इस पड़ाव पर भी उर्जावान है। हजारों लोगों की उपस्थित में हर कोई सिर्फ दादी के लिए दुआ दे रहा था। सबकी निगाहे जियो हजारों साल की तरफ थी। दादी को फूलों और मालाओ से विधिवत सम्मानित किया गया।

दुनियां की महान नारी शक्ति, योगनिष्ठ, तपोनिष्ठ राजयोगिनी दादी जानकी का 103वां जन्मदिन पूरे विश्व में यादगार छोड़ गया। हज़ारों लोगों की मौजूदगी में कभी शांति तो कभी ममत्व की दरिया में डूबी हर किसी का आंखें सिर्फ शक्ति स्वरुपा दादी का दिदार कर रही थी। जब देवियों की देवी दादी का साक्षात रुप कमल पुष्प से प्रकट हुआ तो पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। चारों तरफ सिर्फ दादी के दीर्घायु की कामना हर किसी के जुबान पर था।

दादी जी के 103वें जन्मदिन पर दादी के आवास से कार्यक्रम स्थल तक इन्द्र देवता के रथ पर सजी दादी का कारवां जब निकला तो चारो तरफ सिर्फ यही गूंज थी दादी जियों हजारों साल। दादी के रथ के आगे महाराष्ट् के परम्परागत कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से समारोह स्थल तक समा बांध दिया। बैंड बाजो के साथ दादीजी के स्वागत में सैकड़ों युवा बहनों ने हाथ मे मोमबत्ती लेकर भावभीना स्वागत किया।

दादी के जन्मदिन पर भला बालीवुड कहॉं पीछे रहता। फिल्म अभिनेत्री दिव्या खोसला कुमार ने अपनी शानदार प्रस्तुति से लोगों का मन मोह लिया। वहीं दिल्ली तथा ओआरसी से भी आए कई सदस्यों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां तथा नाटक का मंचन प्रस्तुत किया गया।

दादी के सम्मान को बढ़ाते हुए जयपुर के द नोबल फाउण्डेशन की ओर से दादी को नारी सशक्तिकरण पर अवार्ड भी दिया। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज संस्था के संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, राजयोगिनी दादी इशु, महासचिव बीके निर्वेर, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, सूचना निदेश बीके करुणा, गॉडलीवुड स्टूडियो के कार्यकारी निदेशक बीके हरीलाल, सिरोही के महाराजा रघुबीर सिंह, द् नोबल फाउण्डेशन के अध्यक्ष डॉ. एच.सी गणेशिया, बीके भरत, ओआरसी की निदेशिका बीके आशा समेत अन्य कई लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *