Sat. Oct 31st, 2020

Pimpri-Chinchwad, Maharashtra

महाराष्ट्र में स्थित परियों की नगरी पिंपरी जिसे उद्योगनगरी भी कहते हैं ऐसे स्थान पर ब्रहाकुमारीज का नया दिव्य ज्योति भवन बनाया गया जिसका उद्घाटन संस्था की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी के कर कमलों से संपन्न हुआ
सिर्फ नए भवन का उद्घाटन ही नहीं बल्कि पिंपरी में सेवाओं की रजत जयंती का भी ये खास अवसर था .जिसके उपलक्ष्य में बालाजी लॉन्स में कार्यक्रम आयोजित किया गया और दादी जी का भव्य रूप से सम्मान किया गया उन्हें सेवाकेंद्र प्रभारी बीके सुरेखा और क्वार्टर गेट सबज़ोन प्रभारी बीके पारू ने पगडी, शॉल के साथ ट्रॉफी भेंट की। यदि हम दिल से इस आध्यात्मिक ज्ञान का मनन कर आपस में वर्णन करेंगे और परमात्मा को प्रातःकाल से ही याद करेंगे तो उससे खुशी और शक्ति दोनों मिलती है ये बोल दादी जी के हैं जो उन्होंने बड़ी संख्या में उपस्थित लोगों को अपना आशीवर्चन देते हुए जाहिर किए इसके बाद विधायक लक्ष्मण जगताप समेत अन्य अतिथियों ने भी अपने विचार रखे।
इस खुशी के मौके पर सेवांजलि नामक स्मारिका का प्रकाशन भी दादी जी के शुभ हस्तों द्वारा किया गया तथा पिंपरी चिंचवड महानगरपालिका द्वारा दादी रतनमोहिनी जी को महानगरपालिका का सर्वोच्च सम्मान मानपत्र, महापौर माई ढ़ोरे और विधायक लक्ष्मण जगताप के हाथों प्रदान किया गया वहीं बीके सदस्यों ने भी दिल में उमड़ रहे भावों को सभी के समक्ष प्रस्तुत किया जो खुशी का इज़हार कर रहे थे। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही दिव्य ज्योति भवन का अनावरण संस्था प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी के करकमलों द्वारा किया गया था जिसका उद्घाटन दादी रतनमोहिनी जी के द्वारा संपन्न हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *