Tue. Oct 20th, 2020

ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में आयोजित हुए त्रिदिवसीय मूल्य शिक्षा महोत्सव में झारखण्ड की राज्यपाल द्रौप्दी मुर्मू बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुई। शांतिवन में शिक्षा प्रभाग द्वारा आयोजित 10वें दीक्षांत समारोह का राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू समेत अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों ने उद्घाटन किया।
भारत का संविधान देश के बच्चों को सम्पूर्ण शिक्षा का अधिकार प्रदान करता है। समाज में जब तक मूल्य नहीं है वह सभ्य समाज नहीं बना सकता। इन्हीं कुछ शब्दों के साथ अपने वक्तव्य को आगे बढ़ाते हुए झारखण्ड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि परमपिता परमात्म वर्तमान समय आध्यात्मिक शिक्षा द्वारा मूल्यों की शिक्षा एवं आत्मिक शिक्षा प्रदान कर करे है, जिसे हम भूल गए थे।
इस अवसर पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू समेत यशवंतराव चौहान मुक्त विद्यापीठ के निदेशक जयदीप निकम, ज्ञान सरोवर की निदेशिका बीके डॉ. निर्मला, शिक्षा प्रभाग के अध्यक्ष बीके मृत्युंजय, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करुणा, अन्नामलाई खुला विश्वविद्याल के परीक्षा नियंत्रक डॉ. सेल्वनारायण, मूल्य शिक्षा पाठ्यक्रम के निदेशक बीके डॉ. पांडियामणि समेत अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की, जिसके पश्चात् मौजूद अन्य अतिथियों ने भी ब्रह्माकुमारीज़ के शिक्षा प्रभाग द्वारा चलाए जा रहे मूल्य आधारित पाठ्यक्रमों पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में बीके मृत्युंजय ने बताया कि शिक्षा प्रभाग का लक्ष्य है कि देश के सभी विश्वविद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में मूल्यों की पढ़ाई को प्राथमिकता दी जाए, वहीं बीके डॉ. निर्मला एवं बीके करुणा ने भी अपने विचार व्यक्त किए। समारोह के दौरान राज्यपाल ने कुछ विद्यार्थियों को डिग्री प्रदान कर उन्हें सम्मानित किया, जिनमें.. बीके डॉ. पांडियामणि, बीके भरत, बीके जीतू समेत अन्य विद्यार्थी शामिल रहे। जिसके पश्चात् बीके डॉ. निर्मला ने राज्यपाल को शॉल पहनाकर एवं ईश्वरीय सौगात भेंटकर सम्मानित किया। इस समारोह के दौरान ज़िला कलेक्टर सुरेन्द्र सिंह सोलंकी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हर्ष, माउण्ट आबू उपाधीक्षक प्रवीण कुमार, आबूरोड थाना सदर सीआई आनन्द कुमार, शहर थानाधिकारी अनिल कुमार, शिक्षा प्रभाग की राष्ट्रीय संयोजिका बीके समुन, वेद गुल्यानी समेत अन्य कई आला अफसर उपस्थित थे।
इस आयोजन से पूर्व दीक्षांत समारोह में भाग लेने आए युवाओं ने सजे परिधानों में रैली निकालकर मूल्य आधारित शिक्षा को बढ़ावा देने का संकल्प कराया। राज्यपाल द्रोपदी मूर्म ने ब्रह्माकुमारीज संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी से मुलाकात की तथा ईश्वरीय सेवाओं की चर्चा करते हुए आध्यात्मिक उन्नति के लिए राजयोग ध्यान पर भी विचार विमर्श किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *