Mon. Oct 19th, 2020

भारत देश आध्यात्मिकता के क्षेत्र में विश्व गुरु था और आने वाले समय में पुनः विश्व गुरु बनेगा। भारत देश की शक्ति दूसरों के विकास और तरक्की में सहयोग करती रही है.. वह शक्ति पुनः हमारे देश में वापस आ रही है ये कहना था 70 से भी ज़्यादा अन्तर्राष्ट्रीय कम्पनियों के चेयरमैन तथा फ्यूचर ऑफ पावर प्रोजेक्ट के निदेशक केन्या के उद्योगपति निज़ार जुमा का।
ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के मुख्यालय शांतिवन में स्थित मनमोहिनीवन कॉम्प्लेक्स के ग्लोबल ऑडिटोरियम में आयोजित फ्यूचर ऑफ पावर के त्रिदिवसीय रिट्रीट में दुनिया भर से आए सैकड़ों प्रतिष्ठित हस्तियों को निज़ार जुमा ने बताया कि राजयोग मेडिटेशन से आध्यात्मिक शक्ति का विकास होता है, इसलिए इस शक्ति को अपने जीवन में अपनाने के लिए तैयार रहना चाहिए। इस रिट्रीट के शुभारम्भ पर सिरोही के महाराजा रघुवीर सिंह कहा कि सिरोही ज़िला देवनगरी के नाम से जाना जाता है, यहां देवी देवताओं का वास होता है, और ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान मनाव को देव बनाने का ही कार्य कर रही है।
रिट्रीट के उद्घाटन अवसर पर.. संस्था के महासचिव बीके निर्वैर, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, ज्ञान सरोवर की निदेशिका बीके डॉ. निर्मला, संस्था की कार्यक्रम प्रबंधिका बीके मुन्नी, ऑकोलोजिस्ट डा. रोजर कोल समेत अन्य कई ख्यातनाम हस्तियां एवं संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने अपनी शुभआशाएं व्यक्त की। आगे अन्य मुख्य वक्ताओं में.. माउण्ट आबू से आई वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके शीलू, बीके शिवानी तथा ग्लोबल हॉस्पिटल से बीके डॉ. सचिन ने भी कनेक्टिंग विद् थॉट, पासवर्ड फॉर हैप्पीनेस, पावर ऑफ सबकांशियस माइंड समेत अन्य कई विषयों पर सभा को प्रेरित किया और राजयोगा मेडिटेशन का भी अभ्यास कराया। त्रिदिवसीय रिट्रीट के दौरान प्रश्नोत्तर सत्र समेत कई गतिविधियां एवं सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का भी आयोजन हुआ, जिसका सभी का आनंद लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *