Sun. Sep 26th, 2021

ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान की पूर्व मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि जी की 14वीं पुण्यतिथि विश्व बंधुत्व दिवस के रूप में मनाई गई महान व्यक्तित्व की धनी दादी प्रकाशमणि जी जिन्होंने अपने त्याग तपस्या से नारी जाति को एक नया मुकाम दिया। ऐसे दादी जी के स्मृति दिवस पर ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के शांतिवन में खास कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें दादी प्रकाशमणि जी की व्यक्तिगत सचिव रहीं तथा संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके मुन्नी को उल्लेखनीय कार्यों के तहत टोंगा कॉमनवेल्थ वोकेशन यूनिवर्सिटी ने डॉक्टरेट की डिग्री से नवाजा।
अवसर तो था दादी प्रकाशमणि की 14वीं पुण्य तिथि पर स्मराणांजलि का। लेकिन दादी की व्यक्तिगत सचिव रही बीके मुन्नी को ऐसे मूल्यों से सजाया कि वे वर्तमान में संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका बन गयी और उनकी इस अद्वितीय उन्नति के लिए टोंगा कामनवेल्थ वोकेशन विश्व विद्यालय के प्रो वाईस चांसलर डॉ. रिपु रंजन ने डॉक्टरेट की डिग्री से नवाजा। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज संस्थान की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके संतोष, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड लंदन के नेशनल सेक्रेटरी बीके डॉ. दीपक हरके समेत कई विशिष्ट लोग उपस्थित रहे जहां दादी रतनमोहिनी जी ने बीके मुन्नी को अपनी शुभकामनाएं दी।
इस अवसर पर संस्थान के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन ने कहा कि दादी का जीवन स्वच्छ पानी की तरह निर्मल था। यही वजह था कि उनके सम्पर्क में आने वाला प्रत्येक व्यक्ति पारस बन जाता। मुन्नी बहन भी उस पारस में से एक है।
इसके साथ ही कोरोना में लोगों की जान बचाने तथा बेहतरीन सेवाओं के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड से बीके मृत्युंजय को सम्मानित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *