Thu. Oct 22nd, 2020

The gathering of representatives of the game engaged in the knowledge lake, appeals to the involvement of Raja Yoga and meditation for success in the game.

कुछ वर्षों में लगातर खेलो के प्रति लोगों का राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर रुझान बढ़ा है। परन्तु प्रतिस्पर्धा में लगातार सफलता मिले और असफलता में भी स्थिति समान रहे। इसे लेकर ब्रह्माकुमारीज संस्थान के ज्ञान सरोवर में खेल जगत से जुड़े लोगों के लिए ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के खेल प्रभाग द्वारा अखिल भारतीय सम्मेलन का आयोजन किया गया।

इस सम्मेलन का शुभारम्भ द्रोणाचार्य अवार्ड प्राप्त महावीर सिंह फोगट, ओलपिंक मैडल प्राप्त साक्षी मलिक के कोच ईश्वर सिंह दहिया, राष्ट्रपति द्वारा पुलिस पदक प्राप्त डॉ. दिनेश कुमार शुक्ल, भारतीय स्केटिंग टीम के कोच वीरेश यामा, फिल्म प्रोड्युसर कोलजिंदर सिंह सिद्दू, भारतीय नेवी के कप्तान त्रिभुवन जायसवाल,  खेल प्रभाग की उपाध्यक्ष बीके शशि, राष्ट्रीय संयोजिका बीके कुलदीप, मुख्यालय संयोजक बीके जगबीर की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। ज्ञान सरोवर एकेडेमी में खेल के प्रतिनिधियों के लिए आयोजित सम्मेलन में उन सभी पहलुओं पर चर्चा हुई जिससे जीवन की उत्कृष्टता में इजाफा हो।

भले ही ज्ञान सरोवर एकेडेमी अध्यात्म और गहन मनन चिंतन के लिए जानी जाती है। परन्तु यहां के माहौल से चाहे वह खिलाड़ी हो या कोच, माता पिता हो या कोई और वर्ग के लोग हर कोई अपने जीवन में तरक्की के सुपान पाना चाहता है। इसमें राजयोग और ध्यान हमेशा से अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है।

कई बार ऐसा होता है कि हमारे अंदर ऐसी विचारधारा जाती है, मैं यह कर नहीं सकता हूं, मेरे पास इतनी शक्ति नहीं है या हमारे देश के अंदर इतनी सुविधा नहीं है, ये ऐसी विचारधाराअें हैं जो एक मकड़ी के जाल की तरह है जिसमें खिलाडी स्वयं ही फस जाता है और अपने आपको उस सफलता के लिए तैयार नहीं कर पाता तो इस परिस्थिति में  राजयोग के माध्यम से हमें यह जानकारी मिलती है कि हम एक अनंत उर्जा के श्रोत हैं और बस हमें अपने मन को सफलता के लिए तैयार करना है, जिसमें राजयोग अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान द्वारा उन खिलाड़ियों को विजुलाइजेशन टैक्निक द्वारा यह विजुलाइज कराया जाता है कि वह यह प्रतियोगिता जीत चुके हैं, जिससे उनका सबकानसेंस माईंड इस बात को स्वीकार कर लेता है और एक बार जो बात सबकानसेंस माईंड स्वीकार कर लेता हैं तो वह रिएलटी में हो ही जाता है।

सम्मेलन के दौरान बीके शशि ने आत्मिक चिंतन से मन शांत और एकाग्र करके विजय प्राप्त करने की बात कही साथ ही बीके कुलदीप ने बढ़िया प्रदर्शन के लिए मानसिक एकाग्रता के लिए राजयोग के अभ्यास को दिनचर्या में शामिल करने की अपील की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *