Thu. Oct 24th, 2019

ब्रह्माकुमारीज संस्थान के अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय में आयोजित वैश्विक शिखर सम्मेलन की सफलता पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बधाई संदेश भेजा है। संदेश में उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन से दुनिया भर से आये लोगों में आंतरिक शक्ति बढ़ाने में मदद मिलेगी। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में 27 से 1 अक्टूबर तक आध्यात्मिकता द्वारा शांति, एकता और समृद्धि विषय पर आयोजित वैश्विक शिखर सम्मेलन में देश के उपराष्टपति से लेकर दुनिया भर के नामचीन हस्तियां शामिल हुई। इस शिखर सम्मेलन की सफलता के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पत्र के जरिए बधाई संदेश में कहा है कि आध्यात्मिकता – आंतरिक शक्ति, एक ऐसी अंतर्निहित शक्ति है, जो सदियों से हमारे देश और हमारे लोगों को चला रही है। हमारा देश, एक ऐसा देश रहा है, जो ‘‘लोकः समस्त सुखिनः भवन्तु‘‘ इस सिद्धांत पर विश्वास करता है। आधुनिक जीवनशैली की वजह से तनाव तीव्र गति से बढ़ रहा है और यह एक ऐसी आध्यात्मिक परंपरा है। जो हमारे सामाजिक रचना को बचाने और मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जीवन के प्रति आध्यात्मिक दृष्टिकोण ने हमें सभी बुराइयों से लड़ने और परंपराओं के गुणों को बनाए रखने में बहुत मदद की है।
आध्यात्मिक ज्ञान आंतरिक चेतना को जागृत करता है और एक व्यक्ति को शांति तथा स्वास्थ्य प्रदान करता है। मेडिटेशन वा ध्यान, शरीर, मन और आत्मा के बीच एक सामंजस्यपूर्ण संतुलन बनाने में एक सहायक उपकरण है।
वैश्विक शिखर सम्मेलन आध्यात्मिकता से जुड़े महात्माओं को एक साथ एक मंच पर लाएगा, और एक संयुक्त, सामूहिक चेतना प्राप्त करने के लिए आंतरिक जागृति का उपयोग करेगा, यह शिखर सम्मलेन शांति, स्थिरता और सार्वभौमिक प्रेम से भरे जीवन में राजयोग ध्यान के महत्वपूर्ण महत्व पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा। मुझे यकीन है कि इस वैश्विक शिखर सम्मेलन कम एक्सपो में आध्यात्मिकता से जुड़े महात्माओं को शांति और आंतरिक संतुलन प्राप्त करने में मार्गदर्शन करेगा साथ ही सभी के लिए शांति के इस उद्देश्यों को भी प्राप्त करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *