Sat. Oct 19th, 2019

ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में आयोजित हुए एक्सपो की खबर से… आध्यात्मिकता द्वारा वैश्विक शांति, एकता विषय पर आयोजित वैश्विक शिखर सम्मेलन में दुनिया भर के लोग भाग लेने पहुंचे। शांतिवन परिसर के विशालकाय डायमंड हॉल में उपस्थित हज़ारों लोगों की उपस्थिति में देश के उपराष्ट्पति वेंकैय्या नायडू ने सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस अवसर राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र और ब्रह्माकुमारीज संस्था की मुख्य प्रशासिका 103 वर्षीय राजयोगिनी दादी जानकी भी उपस्थित थी। शांतिवन में ग्लोबल समिट कम एक्सपो का उद्घाटन करने पहुंचे भारत के उपराष्ट्रपति एम.वेंकैय्या नायडू ने कहा कि नई आशाओं के साथ नया भारत आकार ले रहा है, नई तकनीक के साथ हमें अपने आध्यात्मिक मूल्य नहीं खोने है। आगे उन्होंने ब्रह्माकुमारीज़ के कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि ये संस्था पूरे विश्व को भारत की संस्कृति से परिचय करवा रही है। धर्म के नाम पर हो रही हिंसा को रोकने के लिए ब्रह्माकुमारीज़ का सहयोग ज़रुरी है।
राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने इस सम्मेलन में उपस्थित होने पर अपनी खुशी ज़ाहिर की और कहा कि आबूरोड़ के इस परिसर में प्रवेश करते ही शांति, पवित्रता और अपनेपन का अहसास होता है, वहीं सकारात्मकता के आधार पर ब्रह्माकुमारीज़ के आयोजन को अभिनव प्रयोग बताया। सम्मेलन में केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल, राजस्थान के मंत्री सुखराम विश्नोई की भी मुख्य उपस्थिति रही। संस्था की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी ने मैं कौन और मेरा कौन के अर्थ को स्पष्ट किया, वहीं संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी ने परमात्मा को सर्व मनुष्यात्माओं का पिता बताया। उद्घाटन सत्र में महासचिव बीके निर्वैर, संस्था के कार्यकारी सचिव एवं एक्सपो के आयोजन सचिव बीके मृत्युंजय, संस्था की कार्यक्रम प्रबंधिका बीके मुन्नी एवं अन्य वरिष्ठ सदस्य मौजूद थे।
वैश्विक शिखर सम्मेलन के उद्घाटन से पूर्व स्वागत सत्र में केन्द्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते समेत कई लोगों ने स्वागत सत्र में आए अतिथियों का दिल से स्वागत किया।
समारोह के स्वागत सत्र में मुख्य अतिथि केन्द्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि महिलाओं के साथ हो रहे दुराचार, मानवीय कृत्यों की रोकथाम के लिए कारगर प्रयास करने होंगे, जिसके लिए ब्रह्माकुमारीज़ महिलाओं के संगठन ने समाज को सही दिशा देने का जो बीड़ा उठाया है, उसमें हम सभी को कंधे से कंधा मिलाकर इस कार्य में सहयोगी बनना होगा। सम्मेलन में हैदराबाद से पधारी प्रज्वला कम्पनी की संस्थापक पद्श्री सुनिता कृष्णनन.. 25 वर्षों में 22 हज़ार 500 महिलाओं एवं बच्चों को वेश्यावृत्ति से मुक्त करवा चुकी है। अपने वक्तव्य में महिलाओं एवं बच्चों के साथ हो रहे यौन अपराधों को बड़ा संकट बताते हुए.. ब्रह्माकुमारीज़ द्वारा समाज के लोगों को सशक्त बनाने के लिए किए जा रहे कार्यों को सराहा एवं संस्था को महिला सशक्तिकरण की मिसाल बताया। इस दौरान में नेपाल के सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश पुरुषोत्तम भंडारी, के.जी. हॉस्पिटल के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. जी. भक्तवत्सलम, उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा, नालंदा सांसद कौशलेन्द्र कुमार, यूएसए से आई आध्यात्मिक गुरु बिशप मेयर्टिल एनी ब्रिस्टल ने भी समारोह को सम्बोधित किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *