Tue. Nov 12th, 2019

महात्मा गांधी के 150वीं जयन्ति एवं सी.आर.पी.एफ की 81 वर्षगांठ के उपलक्ष्य में स्वच्छता, जल संरक्षण, शांति एवं सामाजिक सद्भावना तथा पर्यावरण की रक्षा के लिए साईकिल रैली का आयोजन किया गया है। गुजरात की राजधानी गांधीनगर से प्रारम्भ हुई ये यात्रा अपने तीसरे पड़ाव पर राजस्थान के आबूरोड स्थित ब्रह्माकुमारीज़ के मुख्यालय शांतिवन पहुंची, जहां वरिष्ठ सदस्यों द्वारा फुल मालाएं पहनाकर जवानों का स्वागत किया गया एवं उनके सम्मान में कार्यक्रम भी आयोजित हुआ।
इस अवसर पर सीआरपीएफ 100 बटालियन के सीएमओ डॉ. राजेश कुमार ने कहा कि सेना के जवान किसी भी बटालियन का हो वह देश की सुरक्षा के साथ लोगों की समृद्धि और सुख शांति के लिए प्रयास करता है, वहीं इस मौके पर उप कमांडेंट पवन कुमार ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
कार्यक्रम में संस्था के जनसम्पर्क एवं सूचना निदेशक बीके करुणा, आंतरिक सुरक्षा अकादमी माउण्ट आबू के डिप्टी कमांडेंट मनोज कुमार यादव, गुरुग्राम के ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर की निदेशिका बीके आशा, संस्था के सोशल एक्टिविटी ग्रुप के अध्यक्ष बीके भरत, यूके से आई वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके गोपी समेत अन्य वरिष्ठ सदस्यों ने भी जवानों का उत्साह वर्धन किया और अपनी शुभकामनाएं दी।
सेन्ट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स. की स्थापना 27 जुलाई 1939 को हुई थी.. जिसमें एक बटालियन से शुरु हुआ ये बल अब.. 246 की संख्या पर पहुंच चुका है। अपनी 81वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में 13 दिन का सफर तय कर सीआरपीएफ एवं आरपीएफ के ये जवान.. 982 किमी की अपनी यात्रा 27 जुलाई 2019 देश की राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट में पूरी करेंगे।
इस कार्यक्रम के अंत में सीआरपीएफ द्वारा अपने यादगार के रुप में ब्रह्माकुमारीज़ को स्मृति चिन्ह भेंट किया, जिसे बीके भरत एवं बीके आशा ने सहर्ष स्वीकार किया।
इस कार्यक्रम के अगले दिन आंतरिक सुरक्षा अकादमी माउण्ट आबू के डी.आई.जी.पी- आर.एस चौहान समेत संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने जवानों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए झंडी दिखाकर रैली को आगे के लिए रवाना किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *