Fri. Oct 30th, 2020

रंग विंरगी रोशनी में नहाता माउण्ट आबू की वादियों की बसा ज्ञान सरोवर एकेडेमी का है। ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा बना यह ज्ञानसरोवर में वहां मौजूद देश-विदेश के दिग्गजों के लिए वो पल खास लम्हें में तब्दील हो गए और हमेशा के लिए यादगार बन गए माउंट आबू के ज्ञान सरोवर एकेडमी से ही है जिसकी सिलवर जुबली की तस्वीरें इस वक्त आप अपने टेलिविजन स्क्रीन पर देख रहे हैं।
बेहतर विश्व अकादमी के नाम से मशहूर इस परिसर में पिछले 25 वर्षों के सफर में संस्थान के तकरीबन 20 प्रभागों के जरिए लाखों लोग शांति और आनन्द के डूबकी लगा चुके है। पूरी दुनिया में शांति और एकता का पैगाम देने वाले इस सरोवर की रजत जंयति समारोह पर देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने संदेश के ज़रिए बधाई और शुभकामनाएं भेजी है।
संदेश में उन्होंने कहा है कि ज्ञान सरोवर समाज को मानवीय सामाजिक और नैतिक मूल्यों की शिक्षा प्रदान करने में सराहनीय भूमिका रही है साथ ही सभी ने इस समारोह की सफलता की कामना की और ब्रहाकुमारी संगठन विश्व को बेहतर बनाने के लिए निरंतर कार्य करता रहेगा
ज्ञान सरोवर की रजत जयंती पर तीन दिनों तक लगातार कई कार्यक्रमों के माध्यम से जश्न मनाया गया आगे हम आपको ले चलेंगे सेलिब्रेशन की ओर लेकिन उससे पहले हम आपको दिखाते हैं पीस न्यूज़ की खास रिपोर्ट
लाखों लोगों के जीवन में अद्भुत परिवर्तन लाने वाले ज्ञान सरोवर का निर्माण सन् 1992 से शुरू हुआ था जिसका उद्घाटन 18 जनवरी सन 1995 को संस्थान की अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी के तन में अवतरित निराकार परमात्मा शिव के द्वारा हुआ इसलिए इस ज्ञान सरोवर में आने वाले हर इंसान के अंदर मूल्यों का रूपांतरण हो जाता है वो मनुष्य से देवता व फरीश्ता बनने के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित हो जाता है जो कि कहीं न कहीं से इतिहास में वर्णित मानसरोवर की याद दिलाता है जिसमें डूबकी लगाते ही मनुष्य फरीश्ता बन जाता था सन 1995 से लेकर आज तक निरंतर समाज के हर वर्ग की आध्यात्मिक सेवाओं के लिए.. ब्रहाकुमारी संगठन की ओर से स्थापित प्रशासनिक सेवा प्रभाग, मेडिकल प्रभाग, मीडिया प्रभाग, समाज सेवा प्रभाग, महिला प्रभाग, युवा प्रभाग और ग्राम विकास प्रभाग समेत लगभग 20 प्रभागों के माध्यम से समय समय पर सम्मेलनों का आयोजन कर विश्व शांति, मानवीय एकता, राजयोग से सकारात्मक जीवनशैली को अपनाने का संदेश दिया जाता रहा है 35 एकड़ भूमि में बने इस विशाल परिसर में यूनिवर्सल हार्मनी हॉल, आध्यात्मिक आर्ट गैलरी, इंटरनेशनल सेंटर, दादी जानकी पार्क, मेडिटेशन डोम, बाबा रूम, विशाल किचन और डायनिंग, वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट सोलार सिस्टम और दादी कॉटेज समेत कई आवासीय कॉम्प्लेक्स की सुविधाएं है जहां देश-विदेश से हर साल लाखों लोग आते हैं और अपने सुंदर भाग्य का निर्माण करते हैं इस पवित्र भूमि पर देश-विदेश की प्रख्यात हस्तियों का भी आवागमन होता रहता है।
आगे ज्ञान सरोवर की सिल्वर जुबली सेलिब्रेशन की ओर जिसकी खुशी मनाने सिरसा से आई सांसद सुनीता दुग्गल, हैदराबाद से आए सात्विक वेब सॉल्यूशंस के एमडी मैरी कृष्णा रेड्डी, बिज़नेसमैन मैरी रविंद्र रेड्डी समेत कई गणमान्य लोगों ने अपने शुभकामनाओं भरे विचार व्यक्त करते हुए ज्ञान सरोवर को स्वर्ग की उपाधि दी। इसके अलावा संस्थान के वरिष्ठ पदाधिकारियों में संस्था के महासचिव बीके निर्वैर, अतिरिक्त महासचिव बीके ब्रजमोहन, कार्यक्रारी सचिव बीके मृत्युंजय, ज्ञान सरोवर की निदेशिका बीके डॉ निर्मला ने भी सभी को संबोधित किया। वहीं ग्रुरूग्राम में ओआरसी की निदेशिका बीके आशा, राजयेग शिक्षिका बीके शिवानी, विदेश की वरिष्ठ बहनों में से अमेरिका में ब्रहाकुमारीज की निदेशिका बीके मोहिनी, यूरोप और मिडिल इस्ट की निदेशिका बीके जयंती भी उपस्थित रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *