Sun. Aug 18th, 2019

Gyan Sarovar, Mount Abu ज्ञान सरोवर, मा.आबू

मन की विकृतियों में वृद्धि होने से ही दुर्घटनायें होती है, लेकिन अगर आध्यात्म और राजायोग को जीवन में अपनाया जाए तो दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है, लोगो में इसी बात की जाग्रति लाने के लिए शिपिंग, एविएशन और टूरिज़्म प्रभाग द्वारा माउंट आबू के ज्ञानसरोवर में तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का अयोजन किया गया जिसका शुभारंभ तेलंगाना टूरिज्म के संयुक्त निदेशक अंजी रेड्डी, पर्यटन मंत्रालय के सचिव सुश्री रश्मी वर्मा, एयर इंडिया अथॉरिटी कार्यकारी निदेशक जी.के चौकियाल, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करूणा, प्रभाग की उपाध्यक्ष बीके मीरा, राष्ट्रीय संयोजिका बीके कमलेश, दिल्ली से तनाव प्रबंधन विशेषज्ञ बीके पीयूष की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ।

जन्म से मृत्यु तक व्यक्ति स्थूल व सूक्ष्म जगत की निरंतर यात्रा करता ही रहता है, और इस यात्रा में दुर्घटना मानसिक तनाव के कारण ही होती हैं इस परिस्थति में मन को तनाव मुक्त बनाने की का एकमात्र कारगर माध्यम है राजयोग जोकि किसी भी यात्रा की प्रथम इकाई व्यक्ति के विचारों पर कार्य करता है, व्यक्ति आज के इस तनाव व दुर्घटना से भरे महौल में भी अपनी स्थूल व सूक्ष्म यात्रा को सुगम बना सकता है बशर्ते वो राजयोग का नियमित रूप से अभ्यास करें।

वायु, जल व थल यात्रा की सेवाओं में आध्यात्म और राजयोग के समावेश के लिए लोगों को प्रेरित करना ही इस प्रभाग का लक्ष्य है, इसी लक्ष्य को स्पष्ट करते हुअे प्रभाग की उपाध्यक्षा बीके मीरा ने सभी से राजयोग को अपनी जीवनशैली का अभिन्न अंग बनाने की अपील की….तो बीके करूणा ने अनाश्यक सूचना के संग्रहण को मन की यात्रा में व्यवधान बताया।

अंत में बीके कमलेश ने कहा कि सकारात्मक, आशावादी दृष्टिकोण और शांति से परिपूर्ण चित वाला मनुष्य ही जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना कर सकता है।

चैलेजिंग द चैलेंजेस विषय पर कई सत्रों के आयोजनो के बाद चौथे दिन सम्मेलन का समापन हो गया इसके समापन सत्र में एयर इंडिया में स्ट्रैटिजी एवं प्लैनिंग डिपार्टमेंट की जनरल मैनेजर दिव्या मोहन, गुजरात सरकार में जी.एस.आर.टी.सी के मैनेजर सी.एम. रॉव, संस्थान के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, खेल प्रभाग की उपाध्यक्षा बीके शशि मुख्य रूप से उपस्थित रहीं।

अतिथियों ने तीन दिनो के अपने अनुभव सुनाअें तो बीके मृत्युंजय ने आध्यात्मिक ज्ञान द्वारा स्वयं को एनलाइटेन करने का आह्वाहन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *