Tue. Dec 18th, 2018

प्रकाश के पर्व दीपावली पर पूरा जहाँ जगमग हो उठा, धरती से लेकर आसमान तक रोशनी की जगमगाहट देखने को मिली। ब्रह्माकुमारीज संस्था के अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय में भी दीपावली का पर्व धूमधाम से मनाया गया। अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय समेत देश विदेश में इको दिवाली मनायी गयी। रोशनी के बीच अज्ञान अंधकार मिटाने का संकल्प और मन की बुराई को हमेशा के लिए विदाई देने का संकल्प किया गया।

इस पर्व पर रंग बिरंगी रोशनी से केन्द्रों का परिसर जग मगा उठता है, कहीं रंगौली तो कहीं सुन्दर फुलों की मालाओं से सजे परिसरों का नज़ारा ही देखने लायक होता है।

 

ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के लिए हर त्यौहारों का अलग ही महत्व है, पर्वों को आध्यात्मिक रीति से मनाने के साथ-साथ… इनका प्रयास रहता है कि लोगों में आध्यात्मिक जागृति भी आए… यदि इस दिन विशेष अपने जीवन में नवीन परिवर्तन करने के संकल्प को लेकर लोग दिपावली मनाए तो इस पर्व का महत्व और खास बन जाता है। ठीक इन्हीं संकल्पों को लेकर विश्व भर में संस्थान के सदस्यों ने हर्षोल्लास के साथ दीपावली का पर्व मनाया।

अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन, मुम्बई के मलाड, झारखण्ड के रांची समेत देश के अन्य कई स्थानों में कार्यक्रम आयोजित कर सभी ने ज्ञान के दीप जलाए।

शांतिवन परिसर के विशाल डायमण्ड हॉल में वरिष्ठ पदाधिकारियों की उपस्थिति में सभी ने अज्ञान अंधकार मिटाकर ज्ञान के प्रकाश का दीप जलाया। इस अवसर पर मौजूद वरिष्ठ पदाधिकारियों ने पर्व के आध्यात्मिक अर्थ को स्पष्ट करते हुए सभी को दिवाली की शुभकामनाएं दी।

हज़ारों की संख्या में मौजूद संस्थान के अनेक सेवाकेन्द्रों, माउण्ट आबू के पाण्डव भवन, ज्ञान सरोवर, पीस पार्क एवं आबू रोड के ग्लोबल हॉस्पिटल, ट्रामा सेन्टर समेत अन्य कई स्थानों से आए संस्थान के देशी एवं विदेशी सदस्यों की मौजूदगी में संस्था प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी ने अपने आशीर्वचनों से सभी को शुभकामनाएं दी।

इस खास मौके पर संयुक्त मुख्य प्रशासिक राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी एवं राजयोगिनी दादी इशु, महासचिव बीके निर्वैर, कार्यक्रम प्रबंधिका बीके मुन्नी, ज्ञान सरोवर की निदेशिका बीके डॉ. निर्मला, रशिया के सेंट पीटर्सबर्ग की निदेशिका बीके संतोष, जापान एवं फ़िलीपीन्स की निदेशिका बीके रजनी, कानपुर सबज़ोन प्रभारी बीके विद्या समेत अन्य कई वरिष्ठ पदाधिकारियों ने भी दिवाली पर्व की बधाई दी।

इस दौरान रशिया से आए संस्थान के सदस्यों ने भारतीय गीतों पर एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियों दी, वहीं अन्य सांस्कृतिक प्रस्तुतियों ने भी कार्यक्रम की शोभा में चार चांद लगा दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *