Thu. Oct 22nd, 2020

Kolkata

आज नशे से दुनियाभर में अनेक समस्याओं का इजाफा हुआ है चाहे वो शारीरिक मानसिक हो या आर्थिक ऐसे में आवश्यकता इस बात की है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को नशे के प्रति जागृति लाई जाए और उन्हें व्यसनमुक्त बनने के लिए प्रेरित किया जा सके। इसी बात को ध्यान में रखते हुए कोलकाता के बांगुर एवेन्यू सेवाकेंद्र द्वारा 2 दिवसीय डी एडिक्शन ट्रेनिंग का आयोजन किया गया। जिसमें मुंबई से संस्थान में व्यसनमुक्ति अभियान के निदेशक डॉ. सचिन परब ने शिरकती की और नशे बीमारियों की अलग अलग अवस्थाओं के बारे में जानकारी देने के साथ बताया कि किस तरह से राजयोग के अभ्यास द्वारा नशे को छुड़वाया जा सकता है।

न्यू टाउन हॉल हाईट कॉम्पलेक्स के कम्यूनिटी हॉल में आयोजित इस ट्रेनिंग कार्यक्रम में 150 से अधिक बीके सदस्यों ने सहभागिता की और लाभ लिया और अंत में सभी ने स्कूल, कॉलेज एवं युवा संस्थाओं से इस सेवा का प्रारंभ करने की योजना बनाई।

बांगुर सेवाकेंद्र पर डी एडिक्शन पर से यस टू फ्रीडम नो टू टोबैको विषय पर अवेयरनेस प्रोग्राम का आयोजन किया गया जिसमें 200 से अधिक लोगों को संबोधित करते हुए डॉ. सचिन परब ने कहा कि व्यसन की भारत का सबसे बड़ा दुश्मन है जिसे जल्द से जल्द समाप्त करना चाहिए। अंत में कुछ लोगों ने व्यसन छोड़ने की प्रतिज्ञा की और उनके उमंग को कायम रखने के लिए सेवाकेंद्र प्रभारी बीके मधु ने उन्हें फीलिंग ग्रेट नामक पुस्तक प्रदान की।

वहीं सेवाकेंद्र पर चिकित्सको के लिए भी वर्ल्ड नो टोबैको डे के उपलक्ष्य में सीक्रेट ऑफ अल्टीमेट ट्रुथ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. एस के रॉय, डॉ. मलय भट्टाचार्य, आईएमए के पास्ट प्रेसिडेंट डॉ आर डी दुबे, सेवाकेंद्र प्रभारी बीके मधु, वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके अस्मिता ने दीप जलाकर किया।

इस दौरान सभी सदस्यों ने अपने जीवन को तनावमुक्त बनाने की शिक्षा दी और आत्मा की शक्ति के बारे में विस्तार से चर्चा की।

ऐसे ही बांगुर सेवाकेंद्र और संघमित्रा क्लब दोनों के संयुक्त प्रयास से कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें आओ व्यसनों को छोड़े खुशियों को अपनाएं विषय पर चर्चा की और लगभग 500 से अधिक लोगों ने इसका लाभ लिया। इस मौके पर दमदम नगरपालिका के चेयरमैन हरेंदर सिंह, काउंसलर रॉबिन धारिया, प्रख्यात क्रिकेट प्लेयर वृद्धिमान शाह, बीके मधु, बीके पदमा, बीके डॉ सचिन परब समेत अनेक गणमान्य लोगों ने वातावरण और परिवार को सकारात्मक और व्यसनमुक्त बनाने की प्रेरणा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *