Wed. Oct 21st, 2020

दीपावली पर्व पर.. पूरा देश जगमग रोशनी से रोशन हुआ, अमावस्या की घोर रात्रि के दिन अनगिनत दीप जलाकर मनाए जाने वाला यह पर्व पुरे जनमानस को खुशियों से भर देता है आज अमावस्या की घोर रात्रि से ज़्यादा तो मनुष्य के अन्दर छिपा अज्ञान ही है जिसमें इंसानियत, मानवता और आध्यात्मवाद प्रायलुप्त हो चूका है इसलिए वस्तक में परमात्मा शिव से ज्ञान लेकर आत्म दीप जलाना ही सच्ची दिवाली मनाना है इसी आध्यात्मिक रहस्यों के साथ देश तथा विदेश में यह पर्व मनाया गया
राजधानी दिल्ली समेत.. उत्तरप्रदेश, झारखण्ड, बेंगलुरु एवं कर्नाटक में किस तरह दिवाली मनाई गई
झारखण्ड के रांची सेवाकेन्द्र पर दीपावली पर्व पर बच्चों द्वारा अनेकानेक सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई, जिसके पश्चात् आए हुए महमानों में.. समाज सेवी श्याम बजाज, रितेश गुप्ता समेत अन्य अतिथियों ने अपनी शुभकामनाएं दी, वहीं सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके निर्मला ने अज्ञान अंधकार मिटाकर सच्ची दिवाली मनाने का आह्वान किया।
आगे बेंगलुरु के जयनगर स्थित सद्भावना भवन में आनन्द और खुशी के साथ सभी ने त्यौहार मनाया। इस अवसर पर अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया वहीं बच्चों द्वारा कई सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई। कार्यक्रम में इंडियन टेलीकॉम सर्विसिज़- बी.एस.एन.एल के प्रिंसिपल जनरल मैनेजर दीपक, प्रख्यात कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉ. बलिगा, स्थानीय सेवाकेन्द्र प्रभारी बीके कल्यानी ने इस मौके पर अपनी खुशी ज़ाहिर की।
इसी क्रम में राजधानी दिल्ली के नरेला मंडी, पहाड़गंज तथा पी.डी. विहार में भी अलौकिक रीति से दीपावली का पर्व मनाया गया, वहीं यूपी के बिजनौर तथा सादाबाद एवं कर्नाटक के थिम्मासंद्र सेवाकेन्द्र में कार्यक्रम सम्पन्न हुए। कहीं.. सुन्दर रंगौली सजाई गई तो दीपक जलाकर.. आत्मा में ज्ञान की दीप जलाने के संदेश के साथ पर्व मनाते हुए लोग नज़र आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *