Wed. Nov 20th, 2019

ब्रह्माकुमारी संस्था पिछले 8 दशक से भारत की पुरातन व सनातन राजयोग विद्या, संस्कृति, सकारात्मक और स्वस्थ जीवन जीने की कला को भारत समेत विश्वभर में प्रचार प्रसार में जुटी है.. इस बार.. राजधानी दिल्ली के लाल किले में योग महोत्सव से धार्मिक सद्भावना का संदेश दिया गया.. जहां बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू समेत धर्म संप्रदाय के विशिष्ट लोगों की उपस्थिति से मंच सजा था.. इस अवसर पर संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, ओआरसी की निदेशिका बीके आशा, शक्ति नगर की प्रभारी बीके चक्रधारी समेत दिल्ली ज़ोन की सभी प्रमुख बीके बहनों समेत अन्य सदस्यों की विशेष मौजूदगी रही।
विश्व को शांति एवं एकता के सूत्र में बांधने के उद्देश्य से ब्रह्माकुमारी संस्था एवं आयुष मंत्रालय ने लाल किले पर एक विशाल योग कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें मुख्य रुप से आए उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने युवाओं से योग को दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बनाने की अपील की, उन्होंने कहा कि योग से पूर्ण मानव व्यक्तित्व पर एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
इस अवसर पर अन्य प्रमुख अतिथियों में हैदराबाद के मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय उर्दू विश्व विद्यालय के कुलपति फिरोज़ बख्त अहमद, बहाई सम्प्रदाय एवं लोटस टेम्पल के राष्ट्रीय ट्रस्टी डॉ. ए.के. मर्चेंट, दिल्ली यहूदी सम्प्रदाय सिनागोग के मुख्य पुजारी व सचिव डॉ. राबी इज़ीकिएल इसाक मालेकर ने भी योग एवं राजयोग पर अपने-अपने विचार व्यक्त किए।
इस मौके पर मौजूद संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारियों में बीके बृजमोहन ने गीता में वर्णित योग का सार समझाया, वहीं बीके आशा एवं बीके चक्रधारी ने ने योग को बढ़ावा देने के लिए सरकार के प्रयास की प्रशंसा की। इससे पूर्व बीके चक्रधारी ने उपराष्ट्रपति का स्वागत करते हुए उनको तुलसी का पौधा भेंट किया।
इस आयोजन के बीच पंडित शिवानंद मिश्रा ने मंत्रोच्चारण कर सभी को योगाभ्यास कराया, जिसके पश्चात् दिल्ली पाण्डव भवन की प्रभारी बीके पुष्पा ने कॉमेन्ट्री द्वारा राजयोग मेडिटेशन कराया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *