Thu. Oct 17th, 2019

Odisha

अनिश्चितता के इस दौर में व्यक्ति के जीवन में आपदा की संभावनाएं बढ़ गई हैं ऐसे में राजयोग के अभ्यास द्वारा परमात्मा की छत्रछाया में निरंतर रहने का अभ्यास करना चाहिए ये उक्त बात म.प्र में छतरपुर के जिला न्यायालय में अधिवक्ताओं के लिए आयोजित कार्यक्रम में सिविल लाइंस सेवाकेंद्र की संचालिका बीके माधुरी ने कही।

इस उपलक्ष्य में जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेंद्र भार्मा, पूर्व अध्यक्ष मनोज व्यास, अधिवक्ता संघ परिसर के अध्यक्ष आसाराम त्रिपाठी, बीके कल्पना एवं बीके उषा समेत कई सदस्य उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *