Sun. Oct 25th, 2020

Khargone

  कैदियों के जीवन को सदमार्ग पर लाने उन्हें सुखमय बनाने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश में खरगौन के जिला जेल में कैदियों के लिये साप्ताहिक राजयोग शिविर का आयोजन किया गया  इस शिविर में बीके मनीषा ने कर्म और फल का सिद्धांत समझाते हुये कहा कि जिस प्रकार आग को आग से नहीं बल्कि पानी से बुझाया जाता है उसी प्रकार बुराई को बुराई से नहीं बल्कि सकारात्मक नजरिये से खत्म किया जा सकता है ,इस दौरान कैदियों ने अपने अनुभव सबके साथ साझा किये और जीवन में श्रेष्ठ मार्ग पर चलने का संकल्प लिया।

आज हरेक व्यक्ति इच्छाओं के अधीन हैं जब ये इच्छायें पूरी नहीं होती हैं तो व्यक्ति को क्रोध आता है और जब व्यक्ति किसी पर कोध्र करता है तो वह अपराध बन जाता है इसी कारण आज के कई युवा अपने जीवन रूपी मार्ग से विचलित होकर एक कैदी की जिंदगी बिता रहे हैं , यदि उन्हें इस समय ईश्वरीय ज्ञान देकर श्रेष्ठ मार्गदर्शन किया जाये तो वे निश्चित ही अच्छे मार्ग पर वापिस सकते हैं, इसी बात को ध्यान में रखते हुये जिसमें जेल अधीक्षक जी. एल. औसारी ,बीके मनीषा एवं बड़ी संख्या में कैदी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *