Sat. Oct 24th, 2020

Chhattisgarh

बच्चों के मन में अनेक प्रकार के विचार चलते हैं, और विचारों की गुणवत्ता में निखार लाने के लिए उनका निरिक्षण, प्रशिक्षण तथा अच्छे वातावरण का होना आवश्यक है इसके लिए सबसे उपयुक्त है समर कैंप बच्चों पर पढ़ाई का बोझ भी नहीं होता और वे अपनी कला को निखारने के लिए पर्याप्त समय भी दे सकते हैं इसी को ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ में कोरबा के सरगबूंदिया गांव में सात दिवसीय बाल व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया गया था जिसमें बच्चों को पूर्व प्राचार्य महावीर राजपूत, के.वी.एन प्रसाद, बीके रीताजंली ने बच्चों को कई शिक्षाप्रद बाते बताई
शिविर के दौरन रोजाना बच्चों को राजयोग का अभ्यास भी कराया गया जिससे उनमें एकाग्रता, दृढ़ता, स्मरण शक्ति का विकास हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *