Wed. Oct 28th, 2020

Chhattisgarh

पैसा हमारे शरीर को कम्फर्ट दे सकता है, लेकिन मन को खुशी नहीं…मन को खुशी मिलती है सुंदर और सकारात्मक विचारों से.. और हर परिस्थति में सकारात्मक और शक्तिशाली विचार क्रिएट करना एक कला है, जो आती है सिर्फ राजयोग मेडिटेशन से यह बातें हैं माउंट आबू के माइंड और मेमोरी ट्रेनर बीके शक्तिराज की जो उन्होंने छत्तीसगढ़ के रायपुर स्थित चौबे कॉलोनी में कही यहां तीन दिनों के लिए खुशियों का बिग बाजार लगा हुआ था जिसमें बीके शक्तिराज बतौर मुख्य वक्ता आमंत्रित थे।
तुम मात पिता है हम बालक तेरे ये आरती की लाइने हम सभी प्रभु के सामने गाते हैं लेकिन अगर हम इस लाइन की गहराई पर जाअें तो हम सब आपस में आत्मिक नाते से भाई-भाई हैं आइए आपको दिखाते हैं इसी बात को बीके शक्तिराज ने लोगो को कैसे समझायी
उन्होंने लोगो को कमेंट्री और कई गतिविधियों द्वारा मन के विचारों को परिवर्तित करने की एक्सरसाईज करायी साथ ही साथ सदा खुश रहने के लिए राजयोग के नियमित अभ्यास की अपील की इस दौरान सेवकेंद्र प्रभारी बीके सविता समेत कई वरिष्ठ बीके बहनें भी मौजूद थी।
इस तीन दिवसीय कार्यक्रम का लोक आयोग में उप सचिव यशवंत कुमार सारथी समेत बड़ी संख्या में प्रबुद्ध नागरिको ने लाभ लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *