Mon. Oct 26th, 2020

वर्तमान समय दुनिया में काफी हलचल है, घर-घर में महाभारत है उसका कारण है आपस में एकता की कमी और विचारों की भिन्नता। आध्यात्म से मनुष्य को समझ मिलती है कि हम सब सर्वोच्च परम शक्ति एक पिता की संतान हैं विश्व में शांति एवं सद्भाव स्थापित हो इसके लिए ब्रह्माकुमारीज़ कई प्रकार से कार्यक्रमों का आयोजन कर यही संदेश जन-जन तक पहुंचाने का कार्य निरंतर कर रही है इसी के चलते आज बुलेटिन की शुरुआत आज छ.ग. के भिलाई से है जहां स्थानीय ब्रह्माकुमारीज़ एवं युवा प्रभाग के संयुक्त प्रयास से एक नवीन पहल की है।
पूरे भिलाई शहर में लोगों को एकता, प्रेम, सद्भाव और भाईचारे का संदेश देने के लिए ‘वो परमपिता मेरा ही पिता है‘ विषय पर सर्वधर्म समभाव युवा साइकिल यात्रा का भव्य रुप से आयोजन किया गया, जिसके उपलक्ष्य में राजयोग भवन के पीस ऑडिटोरियम में कार्यक्रम हुआ, जहां प्रेस क्लब की अध्यक्षा भावना पांडे, कुटुंब न्यायालय के प्रिंसिपल जज निर्मल मिंज, खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सहायक संचालक विलियम लाकरा, भिलाई सेवाकेन्द्रों की प्रभारी बीके आश ने अपनी शुभकामनाएं दी और युवाओं को उत्साह वर्धन किया।
इस रैली के शुभारम्भ पर भिलाई स्टील प्लांट के ई.डी.पी. एण्ड ए- एस.के. दुबे अपने विचार व्यक्त किए, वहीं वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके प्राची ने इस यात्रा का उद्देश्य बताया। सर्वधर्म समभाव युवा साइकिल यात्रा को एस.के. दुबे ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया, जो राजयोग भवन से प्रारम्भ होकर भिलाई के विभिन्न धार्मिक स्थानों से गुज़री। इस रैली की खास बात ये रही कि रैली में 100 युवा भाई बहनों ने मौन की मुद्रा में रहकर लोगों को ईश्वरीय संदेश दिया। सभी धार्मिक स्थलों का नज़ारा जहां इन युवाओं का स्वागत किया गया गायत्री मंदिर, रोमन कैथलिक चर्च, गणेश मंदिर, गुरुद्वारा एवं जामा मस्जिद होते हुए हुडको स्थित स्कंध आश्रम, इस्कान अक्षय पात्र एवं योगाश्रम में ये यात्रा पहुंची। इस दौरान सेवाकेन्द्र पर भिलाई प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया के पत्रकारों के लिए स्नेह मिलन एवं परिचर्चा भी सम्पन्न हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *